congress protest

    मुंबई: महाराष्ट्र और मुंबई कांग्रेस (Mumbai Congress) के नेताओं ने महंगाई, जीएसटी, बेरोजगारी और अग्निपथ योजना के खिलाफ शुक्रवार को राज्यव्यापी प्रदर्शन (Protest ) किया। इन नेताओं ने राजभवन के घेराव व जेल भरो आंदोलन की घोषणा की थी, लेकिन कई प्रमुख नेताओं और कार्यकर्ताओं को राजभवन पहुंचने से पहले ही गिरफ्तार (Arrested) कर लिया गया। 

    इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि देश की जनता बेतहाशा महंगाई से जूझ रही है। ऐसे में केंद्र सरकार ने आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी लगाकर गरीबों के मुंह से निवाला छीनने की कोशिश कर रही है। हालांकि हैरत की बात यह है कि केंद्र सरकार को महंगाई नजर नहीं आ रही है। 

    कांग्रेस के आंदोलन से ही नेताओं को किया गिरफ्तार

    कांग्रेस के आंदोलन से पहले पटोले के अलावा  बालासाहेब थोरात, अशोक चव्हाण, वर्षा गायकवाड़, चंद्रकांत हंडोरे, नसीम खान, अमर राजुरकर, वजाहत मिर्जा, अभिजीत वंजारी, देवानंद पवार व प्रमोद मोरे समेत कई नेताओं को विधान भवन परिसर में ही गिरफ्तार कर लिया। जबकि पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण, पूर्व प्रदेश  अध्यक्ष माणिकराव ठाकरे, पूर्व मंत्री डॉ. नितिन राउत, असलम शेख, मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष भाई जगताप, मुख्य प्रवक्ता अतुल लोंढे , महासचिव राजेश शर्मा को मलबार हिल परिसर में गिरफ्तार किया गया।

    लोकतंत्र में आंदोलन का अधिकार

    आंदोलन के दौरान पत्रकारों से बात करते हुए कांग्रेस विधायक दल के नेता बालासाहेब थोरात ने कहा कि ब्रिटिश शासन के दौरान भी आंदोलन करना संभव था, लेकिन अब देश में लोकतंत्र होने के बावजूद आंदोलन की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार महंगाई के मुद्दे पर जवाब नहीं देना चाहती है लेकिन क्या ईडी सरकार के राज में आंदोलन पर भी प्रतिबंध है। महाराष्ट्र कांग्रेस ने महंगाई, बेरोजगारी, जीएसटी, अग्निपथ योजना, किसानों के मुद्दों पर पूरे राज्य में आंदोलन किया और केंद्र और राज्य में बीजेपी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।