Gadkari
File Photo

    नागपुर. खेल से व्यक्तित्व और चरित्र का विकास होता है. आज तकनीक में डूबे बच्चों को खेलने के लिए मैदान में लाने की जरूरत है. खासदार क्रीड़ा महोत्सव का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि सिटी के लगभग 1 लाख खिलाड़ी शहर के 450 से अधिक मैदानों में खेलें और इससे वे अपने शहर और देश का विकास करें. शहर में खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए पद्मश्री धनराज पिल्लै जैसे महान खिलाड़ियों को महोत्सव में आमंत्रित किया जाता है.

    धनराज के खेल से प्रेरणा लेकर सिटी में भी उनके जैसे खिलाड़ी तैयार किये जाये. यह बात खासदार क्रीड़ा महोत्सव पर केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कही. इससे पहले भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान धनराज पिल्लै के हाथों महोत्सव मानकापुर स्थित विभागीय क्रीड़ा संकुल में उद्घाटन किया गया. 

    मेहनत, खेल, देशप्रेम, यही खिलाड़ी का त्रिसूत्र : धनराज

    धनराज ने कहा कि हारकर भी जीतने को मौका केवल खेल में ही मिलता है. इन सभी परेशानियों का खुद सामना करने के महत्व जानता हूं. खेल के प्रति प्रेम और आत्मविश्वास ने आगे बढ़ने में बहुत मदद की. कड़ी मेहनत करने, अपने खेल से प्यार करने और अपने देशप्रेम की क्षमता एक तिकड़ी है जिसे हर खिलाड़ी सीखेगा.

    पुणे के छोटे से गांव खड़की से निकलकर 4 हॉकी विश्व कप, 4 ओलम्पिक और 4 एशियाई चैम्पियनशिप में खेलने वाले देश के एकमात्र एथलीट बनना मेरे लिए गर्व की बात है. हालांकि इस सफलता में माता-पिता का बहुत बड़ा योगदान है. उन्होंने यह भी कहा कि प्रत्येक खिलाड़ी को अपने माता-पिता और कोचों का सम्मान करना चाहिए. साथ ही खिलाड़ियों को कड़ी मेहनत करनी चाहिए और जिस भी क्षेत्र में हैं, उसमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहिए.

    रंगारंग कार्यक्रमों ने मोहा मन

    द्रोणाचार्य अवार्डी विजय मुनीश्वर ने खासदार क्रीड़ा महोत्सव का झंडा फहराया. अंतरराष्ट्रीय एथलीट निकिता राऊत, कल्याणी चुटे, शुभम वंजारी और विधि तराडे महोत्सव की मशाल लेकर मंच पर पहुंचे. ‘इंडियाज गॉट टॅलेंट’ में हिस्सा लेकर आये अमित माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों ने बेहतरीन प्रात्यक्षिक भी दिया. खिलाड़ियों ने मलखांभ, ढोल ताश के ताल पर लेजिम आदि प्रस्तुतियों ने उपस्थितितों का मन मोह लिया. पद्मश्री धनराज पिल्लै ने सभी खिलाड़ियों को खेल भावना की शपथ दिलाई.