NMC

    नागपुर. सिटी की तरह ही महानगरपालिका में भी में कोरोना संक्रमण की   स्थिति भयावह हो रही है. इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अधिकांश अधिकारी और पार्षदों के कोरोना की चपेट में आने के कारण 21 जनवरी को होने वाली मनपा की आम सभा को रद्द करना पड़ा. हालांकि राज्य सरकार के निर्देशों के अनुसार मनपा की आम सभा ऑनलाइन होनी थी किंतु अधिकारी और पार्षद कोरोना से पूरी तरह ग्रसित होने के कारण ऑनलाइन सभा में भी उनका हिस्सा लेना संभव नहीं है जिससे अब मनपा की आम सभा 25 जनवरी को रखी गई है.

    उल्लेखनीय है कि मनपा का प्रत्येक विभाग कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गया है जिससे कामकाज पर इसका बुरा असर पड़ा हुआ है. सूत्रों के अनुसार एक संक्रमित वरिष्ठ अधिकारी के सम्पर्क में आने के कारण मनपा आयुक्त ने नियमों के अनुसार स्वयं को आइसोलेट किया था. 

    अधिकारियों के फोन भी बंद

    सूत्रों के अनुसार मनपा के कई विभाग प्रमुख भी कोरोना संक्रमित हुए हैं. कोरोना से बाधित होने के बाद इन अधिकारियों की ओर से मोबाइल फोन भी बंद कर दिया गया. 21 को आयोजित मनपा की सभा के लिए इन अधिकारियों से सम्पर्क करने का प्रयास किया गया किंतु किसी भी विभाग प्रमुख से सम्पर्क नहीं हो पाया है. इससे सत्तापक्ष का मानना था कि यदि सदन में आने वाले विषयों पर जवाब देने के लिए सभा में अधिकारी ही नहीं होंगे तो इस सभा का कोई औचित्य नहीं है. अत: मजबूरन सभा को आगे बढ़ाना पड़ा है. जानकारों के अनुसार दिन-ब-दिन लगातार कोरोना के आंकड़ों में तेजी से वृद्धि हो रही है. यहां तक कि अधिकांश लोग संक्रमित होते जा रहे हैं जिससे भले ही सभा आगे बढ़ाई गई हो लेकिन  4 दिनों में ही इन अधिकारियों के ठीक होने की कोई संभावना नहीं है. इसके अलावा अन्य अधिकारी और पार्षद भी कोरोना संक्रमित हो सकते हैं. 

    नियमों का पालन नहीं

    सूत्रों के अनुसार कोरोना के दुष्प्रभाव पर नियंत्रण करने के लिए राज्य सरकार के निर्देशों के अनुसार मनपा आयुक्त ने कुछ दिशानिर्देश जारी किए गए थे जिनमें सभी सरकारी और अर्धसरकारी तथा निजी कार्यालयों में अधिक से अधिक कर्मचारियों को वर्क फ्राम होम तथा कार्यालय में 50 प्रतिशत से अधिक की उपस्थिति पर पाबंदी लगाई गई थी. यहां तक कि विभाग प्रमुखों की अनुमति के बिना कार्यालयों में बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर भी पाबंदी लगाई गई थी. किंतु मनपा मुख्यालय में ही इसका पालन नहीं किया गया. फलस्वरूप मनपा में अब हर दूसरे दिन किसी न किसी अधिकारी और कर्मचारी के कोरोना संक्रमित होने की खबर उजागर हो रही है. इसके अलावा मनपा मुख्यालय में बाहरी लोगों के आने का सिलसिला भी बदस्तूर जारी है.