crime
File Pic

    नागपुर. नंदनवन परिसर में शनिवार की शाम दिलदहला देने वाली वारदात सामने आई. दिनदहाड़े घर में घुसकर एक वृद्ध महिला की हत्या की गई. बताया जाता है कि आरोपी ने पहले महिला के हाथ बांधे और बाद में धारदार हथियार से गला चीरकर हत्या कर दी. इस घटना से परिसर में हड़कंप मच गया है, वहीं पुलिस के हाथ-पैर भी फूल गए हैं. प्राथमिक जांच में चोरी और लूटपाट के इरादे से हत्या होने का अनुमान लगाया जा रहा था लेकिन वृद्धा के जेवर और घर का सारा सामान सुरक्षित होने के कारण बड़ी साजिश दिखाई दे रही है. मृतक गायत्री कॉन्वेंट के पीछे, न्यू नंदनवन निवासी देवकी उर्फ देवकाबाई जीवनदास बोबड़े (75) बताई गई. देवकी मेडिकल कॉलेज से वैद्यकीय अधिकारी पद से निवृत्त थी. उनके पति जीवनदास टीचर थे. 

    मुंह और हाथ पर बांधी पट्टी

    गायत्री कॉन्वेंट के पीछे देवकी का बड़ा मकान है. तल मंजले पर देवकी और जीवनदास रहते हैं और पहले माले पर बेटी डॉ. किशोरी अपने पति डॉ. संजय पंचभाई के साथ रहती है. जीवनदास लकवाग्रस्त हैं और बिस्तर पर पड़े रहते हैं. इसीलिए उनकी देखभाल के लिए एक केयर टेकर भी रखा गया था. शनिवार की सुबह केयर टेकर ने घर में आकर जीवनदास की साफ-सफाई की और चला गया. इसके बाद देवकी और जीवनदास घर पर अकेले ही थे. शाम 6 बजे के दौरान बेटी किशोरी नीचे आई. मां को खून से लथ-पथ हालत में पड़ा देखा. चीख-पुकार होने पर पड़ोसी भी जमा हो गए. देवकी जमीन पर पड़ी थी. उनके दोनों हाथ चिंदी से पीछे बांधे गए थे. मुंह पर भी पट्टी बांधी गई थी. गले चीरे जाने का गहरा निशान था. घटना की जानकारी मिलते ही नंदनवन पुलिस मौके पर पहुंची. 

    CP और ज्वाइंट सीपी भी पहुंची

    मामले की गंभीरता को देखते हुए खुद पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार और ज्वाइंट सीपी अस्वती दोरजे ने घटनास्थल का जायजा लिया. डीसीपी जोन 4 नुरुल हसन और डीसीपी क्राइम चिन्मय पंडित ने अपनी टीमों को जांच में लगा दिया है. पहले लगा कि लूटपाट के इरादे से वारदात को अंजाम दिया गया लेकिन देवकी के गले का मंगलसूत्र सहित सारे आभूषण सलामत थे. घर का कोई सामान भी बिखरा नहीं था और अलमारी भी बंद थी. ऐसे में फोरेंसिक जांच टीम को मौके पर बुलाया गया. पुलिस को संदेह है कि घर पूरी जानकारी रखने वाले व्यक्ति ने ही वारदात को अंजाम दिया है. इस तरह आरोपी का घर में आना पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया. घर में कोई हथियार पुलिस को नहीं मिला है. अब सवाल ये उठता है कि आखिर इतनी निर्ममता से देवकी की हत्या क्यों और किसने की. पुलिस आसपास के नागरिकों से भी पूछताछ कर रही है. देवकी के 3 बच्चे हैं. बताया जाता है कि बेटे ने कुछ वर्ष पहले आत्महत्या कर ली थी. बड़ी बेटी चेतना प्रफुल जीवतोड़े अपने परिवार के साथ रमना मारोती परिसर में रहती है.