tigress, katrina

  • पिछले एक वर्ष से बंद है जंगल सफारी

हिंगना. बोर डैम नागपुर व वर्धा जिले की सीमा पर स्थित है. इसका अडेगांव गेट बोर जलाशय के निचले भाग में होने से जंगल का हिस्सा पानी में डूबा हुआ है. कोरोना की वजह से जंगल सवारी पिछले 10 महीनों से बंद पड़ी है और यहां बसने वाली कैटरीना की एक झलक देखने के लिए जंगल प्रेमी तरस रहे हैं. बोर अभयारण्य जंगल परिसर वर्धा जिले में आता है. यह 138 वर्ग किलोमीटर में फैला है. नागपुर जिले के हिंगना विधानसभा क्षेत्र में होने से इसका लाभ पर्यटकों को होने के उद्देश्य से विधायक समीर मेघे ने अडेगाव में जंगल सवारी के लिए एक भव्य गेट बनवाया.

इस गेट से जंगल सफारी भी शुरू की गई. पर्यटन के लिए अच्छा प्रतिसाद भी मिलने लगा था, लेकिन पिछले मार्च महीने से कोरोना की वजह, फिर जून से बरसात शुरू हो गई. अडेगाव गेट बोर डैम के निचले भाग में होनेसे जंगल का बड़ा हिस्सा पानी मे डूबा हुआ है. इसमें 10 फिट से ज्यादा ऊंचाई की घास भी उगी हुई है. जंगल सफारी के रास्ते बुरी तरह खराब हो गए हैं.

पिछले 10 महीनों से जंगल सफारी सेवा भी बंद है. वर्धा जिले की ओर से जो गेट है, वह पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है, लेकिन अडेगांव गेट कब शुरू होगा पता नहीं. बोर अभयारण्य की प्रमुख आकर्षण कैटरीना बाघिन है. कुछ वर्ष पूर्व मेटिंग के समय मे बाजीराव बाघ कैटरीना से मिलने आता था. इससे कैटरीना के परिवार की बगिया काफी फैल गई. आज की स्थिति में इस अभयारण्य में 14/15 बाघ होने का अनुमान वन्य प्रेमी लगा रहे हैं.

फरवरी तक खुलने की उम्मीद

कोंढाली मार्ग की दुर्घटना में बाजीराव बाघ की मृत्यु हो गई थी. इसके बाद भी कैटरीना का इस व्याघ्र प्रकल्प में मुक्त संचार शुरू है. व्याघ्र प्रकल्प के कर्मचारियों को रात्रि गस्त में इसके ट्रेस होने की बात सामने आयी है. कैटरीना इस बोर अभयारण्य की शान है. लोकडाउन की वजह से अडेगाव गेट बंद होने से व्याघ्र प्रेमियों को कैटरीना का दर्शन नहीं हो पा रहा रहा है.

इस अभयारण्य में तेंदुआ, रीछ, सांभर, जंगली भैंस, जंगली सुअर, हिरण, मोर के साथ कई तरह के पशु तथा पक्षी हैं. इसलिए यहां पर्यटक खिंचे चले आते हैं. अडेगांव प्रवेश द्वार का मार्ग दिसंबर में भी पानी से भरा है. पानी कम होने, बढ़ा हुआ घास काटने व रास्ते की मरम्मत के लिए कम से कम दो महीने का समय लगेगा. इसलिए अडेगांव गेट पयर्टकों के लिए जनवरी-फरवरी 2021 तक खुलने की उम्मीद जताई जा रही है. तब तक पर्यटकों को कैटरीना की झलक का इंतजार करना पड़ेगा.