जानें क्यों चांदवड में 50 व्यापारियों का लाइसेंस हुआ निलंबित

    चांदवड : नए-पुराने व्यापारियों के विवाद में विगत तीन दिनों से ठप कृषि उपज मंडी समिति (Agricultural Produce Market Committee) में प्याज (Onions) की नीलामी को लेकर निर्माण समस्या का हल निकालने में सफलता मिली है। इसके बाद शुक्रवार (Friday) से प्याज की नीलामी पूर्ववत शुरू हुई। तीन दिनों से नीलामी की प्रतीक्षा में बैठे प्याज उत्पादकों को राहत मिली। दरमियान शुरू नीलामी अचानक बंद किए जाने से प्याज विक्री के लिए पहुंचे किसानों को कई समस्या का सामना करना पड़ा, जिसे ध्यान में रखकर मंडी समिति के संचालक मंडल ने नीलामी से बाहर निकलने वाले करीब 50 व्यापारियों के लाइसेंस तीन दिनों के लिए निलंबित किए।

    पुराने और नए व्यापारियों का विवाद समाप्त होने से सोमवार से पुराने 50 से 60 और नए 20 से 25 व्यापारी एकत्रित रूप से प्याज की नीलामी में शामिल होने की जानकारी सभापति डॉ.आत्माराम कुंभार्डे ने दी। मंडी समिति की ओर से 20 से 25 नए व्यापारियों को प्याज खरीदी का लाइसेंस दिया गया है। जिन्हें नीलामी में शामिल होने के लिए मंडी समिति सकारात्मक है, लेकिन पुराने व्यापारी इसका विरोध कर रहे है।समिति की सभी कानूनी मंजूरी प्राप्त करने के बाद नए व्यापारी नीलामी में शामिल होने से 11 जनवरी की दोपहर 4 बजे के बाद पुराने व्यापारी अचानक नीलामी से अलग हो गए है। इससे प्याज की नीलामी ठप हो गई।

    मंडी समिति में सैकड़ों किसान वाहनों के माध्यम से प्याज लेकर पहुंचे थें, लेकिन नीलामी ठप होने से उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। नए व्यापारियों ने केवल रिक्षा, पिकअप वाहनों से लाई हुई प्याज की नीलामी की। इसका परिणाम प्याज के दामों पर हुआ। इससे किसानों ने ठिय्या आंदोलन करते हुए आक्रोश व्यक्त किया। पुराने और नए व्यापारियों के विवाद को मंडी प्रशासन ने गंभीरता से लिया। सभापति डॉ. आत्माराम कुंभार्डे सहित संचालकों ने दखल दी। व्यापारियों की बैठक बुलाई। पुराने और नए व्यापारियों का विवाद हल हुआ। इसके बाद शुक्रवार से नीलामी पूर्ववत शुरू हुई। दरमियान व्यापारियों के इस रवैये से नाराज होकर समिति ने नीलामी से बाहर निकलने वाले करीब 50 व्यापारियों का लाइसेंस 3 दिनों के लिए सस्पेंड करने की जानकारी सभापति डॉ. कुंभार्डे ने दी।