कोरोना संकट टालने खंडेराव टेकड़ी पर हुई महाआरती

  • चंपाषष्ठी के अवसर पर हुई विधिवत पूजा
  • हर साल होता था यात्रा उत्सव

देवलाली कैम्प. खंडेराव टेकड़ी (Khanderao Tekdi) पर चंपाषष्ठी के अवसर पर होने वाला यात्रा उत्सव इस बार कोरोना के कराण रद्द किया गया। इस बार केवल खंडेराव टेकड़ी पर धार्मिक अनुष्ठान (Religious ritual) संपन्न हुए। इस दौरान कोरोना का संकट (Corona crisis) टालने के लिए पूजा विधि की गई.

विगत अनेक वर्षों से खंडोबा टेकड़ी पर चंपाषष्ठी पर यात्रा उत्सव का आयोजन किया जा रहा है, लेकिन इस बार कोरोना महामारी (Corona epidemic) को ध्यान में रखकर भव्य दिव्य कार्यक्रम के बजाए यह धार्मिक उत्सव सादगी के साथ मनाया गया। यहां भगवान की पूजा संपन्न हुए।

इस दौरान मंदिर के पुजारी आमले, कैन्टोन्मेंट बोर्ड के उपाध्यक्ष सचिन ठाकरे, प्रकाश आमले, सचिन आमले, अथर्व आमले, नितिन आमले, सतीश म्हस्के, नरेंद्र गायकवाड़ आदि उपस्थित थे। सुबह 7 बजे साप्तमिक पूजा व महाअभिषेक किया गया। इसके बाद कैन्टोन्मेंट बोर्ड के पूर्व उपाध्यक्ष दिनकर पालदे, अण्णाज टेम्पल हिल ग्रुप के नागेश देवाडिगा, रमेश गायकर, संजय भालेराव, परमजीतसिंग कोचर, दीपक बलकवडे, संग्राम करंजकर, धीरज मांडे, रामनिवास सारडा, सुरेश शेटे, संजय आढाव, भगवान शिंदे, लक्ष्मीधर डेश, संजय माथुर, संजय भुतडा, दत्ता सुजगुरे, संजय गोडसे, राजू चौधरी, शरद गोडसे, भगवान शिंदे, राजू पगारे, अनिल पालदे, संतोष घोडे, मनोज ठाकरे आदि ने महाआरती की। इसके बाद बैलगाड़ी का पूजन हुआ।