स्थायी समिति की रिक्त सीट पर भाजपा की सुजाता पालांडे की नियुक्ति

    पिंपरी. सभापति पद पर मौका न मिलने और आला नेताओं द्वारा आखिर तक झुलाए रखने से नाराज भाजपा (BJP) के नगरसेवक रवि लांडगे (Corporator Ravi Landge) ने स्थायी समिति सदस्य (Standing Committee Member Post) पद से इस्तीफा दिया है। इससे रिक्त हुई सीट पर सोमवार को पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) की सर्वसाधारण सभा में भाजपा की नगरसेविका सुजाता पालांडे (Corporator Sujata Palande) की नियुक्ति की गई। मौजूदा नगरसेवकों का पंचवर्षीय सत्र अगले साल फरवरी में खत्म होने जा रहा है। इससे पालांडे को मात्र पांच माह का कार्यकाल मिलेगा।

    मार्च माह में पिंपरी-चिंचवड महानगरपालिका स्थायी समिति में नए सदस्यों की नियुक्ति की गई। इसमें रवि लांडगे जिन्होंने महानगरपालिका के पिछले आम चुनाव में निर्विरोध चुनकर आकर भाजपा की जीत का खाता खोला, समेत अन्य सदस्यों की नियुक्ति की गई।

    रवि लांडगे ने दिया था इस्तीफा

    उसके बाद एड. नितिन लांडगे को समिति का सभापति चुना गया, जबकि रवि लांडगे इस पद के लिए बड़े दावेदार थे। उनकी दावेदारी खारिज होने से नाराज होकर उन्होंने सदस्य पद से ही इस्तीफा दे दिया। उन्होंने एक भी बैठक में उपस्थिति नहीं दर्शाई। इसके चलते उनकी सदस्यता रद्द हो गई औऱ उनकी जगह नए सदस्य की नियुक्ति की जानी थी।

    एनसीपी के पाले में नजर आ रहे हैं रवि लांडगे 

    आज सर्वसाधारण सभा में स्थायी समिति की रिक्त सीट के लिए भाजपा की ओर से सुजाता पालांडे का नाम का प्रस्ताव दिया गया। इसके बाद महापौर ऊषा ढोरे ने उनके नियुक्ति की घोषणा की। पालांडे संत तुकाराम नगर प्रभाग से दूसरी बार नगरसेविका चुनी गई हैं। 2012 में वह राष्ट्रवादी की ओर से पहली बार नगरसेविका चुनी गई थी। 2017 में मात्र उनका टिकट कट जाने से उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया और भाजपा की ओर से दूसरी बार नगरसेविका चुनी गई। पिछले साढ़े चार साल में वरिष्ठ नगरसेविका रहने के बावजूद उन्हें कोई अहम पद नहीं मिल सका। इससे वह भाजपा से खफा चल रही थी, हालांकि रवि लांडगे के इस्तीफे के बाद रिक्त सीट पर उन्हें मौका देकर पार्टी ने उन्हें रिझाने की कोशिश की है। बहरहाल पिछले कुछ दिनों से रवि लांडगे राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के पाले में लगातार सक्रिय नजर आ रहे है।