PUNE METRO

    पुणे: भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने पुणे महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (PMRDA) को चेतावनी दी है कि अगर वह एक सप्ताह के भीतर हिंजवड़ी (Hinjawadi) से शिवाजी नगर (Shivaji Nagar) तक मेट्रो रेल मार्ग पर काम शुरू करने में विफल रहता है, तो वह आंदोलन (Protest) शुरू करेगी। 23 किलोमीटर की इस मेट्रो लाइन (Metro Line) की आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने 18 दिसंबर, 2018 को रखी थी। मार्ग पर संचालन दिसंबर 2019 तक शुरू होने की उम्मीद थी। हालांकि, प्रस्तावित मार्ग पर काम  शुरू होना बाकी है।

    हिंजेवाड़ी से शिवाजी नगर तक मेट्रो लाइन शहर की तीसरी लाइन होगी। पहली दो लाइन-वनाज़ से रामवाड़ी और पिंपरी-चिंचवड़ से स्वारगेट तक  का काम महाराष्ट्र मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (महामेट्रो) द्वारा किया जा रहा है, जबकि तीसरी लाइन पीएमआरडीए द्वारा पीपीपी (पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप) के रूप में विकसित की जा रही है। 

    परियोजना के लिए 98 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण 

    काम शुरू करने में देरी का कारण परियोजना को लागू करने वाली निजी कंपनी द्वारा रखी गई पूर्व शर्त बताई जा रही है। जिसके तहत जरूरी भूमि का अधिग्रहण करने में समय लग रहा है। इससे पहले, पीएमआरडीए ने घोषणा की थी कि मेट्रो रेल मार्ग मार्च 2023 तक चालू हो जाएगा और इसकी सेवा व्यस्त समय के दौरान प्रति घंटे 30,000 यात्रियों को ले जाएगी। हालांकि, भूमि अधिग्रहण में लगने वाले समय ने परियोजना के कार्यान्वयन और इसके संचालन में देरी की है। पीएमआरडीए ने परियोजना के लिए 98 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण किया है, इसलिए इस पर काम तुरंत शुरू होना चाहिए और शेष भूमि के अधिग्रहण की प्रक्रिया को तेज किया जाना चाहिए।  इस बीच, वनाज से रामवाड़ी और पिंपरी-चिंचवड़ से स्वारगेट तक मेट्रो रूट पर काम जोरों पर चल रहा है और दिसंबर के अंत तक पूरा होने की संभावना है।