File Photo
File Photo

Loading

पुणे: जैसा की हमने आपको खबर दी थी की आज पुणे में प्रधानमंत्री के विरोध में ‘INDIA’ फ़्रंट की ओर से आंदोलन किया जायेगा। अब आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आज से शुरू हुई पुणे यात्रा के दौरान कांग्रेस, एनसीपी, शिवसेना (उद्धव ठाकरे समूह), रिपब्लिकन और लेफ्ट के साथ-साथ अंबेडकरवादी, प्रगतिशील पार्टी संगठन उनका विरोध कर रहे हैं। आइए जानते है पूरी खबर विस्तार से… 

जी हां पुणे से खबर सामने आ रही है कि सुबह 9 बजे से ही मंडई स्थित लोकमान्य तिलक प्रतिमा पर नरेंद्र मोदी को काले झंडे दिखाकर ऐलान किया जा रहा है। बता दें कि ये आंदोलन अभी भी चल रहा है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि यह विरोध प्रदर्शन केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के विरोध में आयोजित किया गया है, जिसमें मणिपुर में महिलाओं के साथ हिंसा और दुर्व्यवहार की घटनाओं की उपेक्षा और संसद का सामना न करने पर विपक्ष को दिखाया गया अनादर शामिल है। 

PM मोदी के विरोध के इस आंदोलन में वरिष्ठ समाजवादी नेता डाॅ. कुमार सप्तर्षि, पुणे शहर कांग्रेस पार्टी के शहर अध्यक्ष अरविंद शिंदे, अभय छाजेड़, पूर्व न्यायाधीश बी. जी। कोलसे पाटिल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रशांत जगताप, शिवसेना (उद्धव ठाकरे समूह) की सुषमा अंधारे, संजय मोरे और गजानन थरकुटे, रिपब्लिकन युवा मोर्चा के राहुल दंबाले, लेफ्ट मूवमेंट के अजीत अभ्यंकर, नितिन पवार, सुभाष वारे, डॉ. अभिजीत वैद्य, विश्वम्भर चौधरी, शरद जावड़ेकर, लुकास केदारी आदि शामिल हुए है।  

आंदोलन का नेतृत्व संबंधित दलों के प्रमुख गणमान्य व्यक्तियों ने किया। गणमान्य लोगों ने विरोध सभा सहभाग लिया है। ऐसे में अब पुणे शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरविंद शिंदे समेत सभी ने सवाल उठाया कि जब मणिपुर जल रहा है तो प्रधानमंत्री पुरस्कार कैसे स्वीकार कर सकते हैं।