Hemant rasane

    पुणे. स्थायी समिति के अध्यक्ष (Standing Committee Chairman) हेमंत रसाने (Hemant Rasane) ने नगर निगम प्रशासन (Municipal Administration) को तत्काल कार्यों के लिए खोदी गई सड़कों को पहले जैसे करने का निर्देश दिया और उसके बाद ही चरणों में अगली खुदाई की जानी चाहिए। रसाने ने शहर में गड्ढों को लेकर गुरुवार जल योजना के अधिकारियों (Water Planning Officials) और कंपनी प्रतिनिधियों (Company Representatives) की बैठक भी बुलाई थी।

    सड़को पर गड्ढों का साम्राज्य 

    शहर में पिछले एक सप्ताह से हो रही बारिश से सड़कों पर काफी गड्ढे हो गए हैं। इसलिए पुनेकरों को भारी बारिश के साथ-साथ शहर में ट्रैफिक जाम का भी खामियाजा भुगतना पड़ता है। साथ ही नगर निगम द्वारा बरसात के दिनों में भी वही जल योजना और जल निकासी विभाग का कार्य जारी रखने के निर्णय के कारण शहर की कई सड़कों को खोद दिया गया है और मरम्मत नहीं की गयी है। इसलिए नगर निगम की काफी आलोचना हो रही है और सवाल उठाया जा रहा था कि इसके लिए कौन जिम्मेदार है। हालांकि, निगम में सत्ताधारी दल होने के नाते वे कह रहे हैं कि यह जिम्मेदारी हमारी है। स्थायी समिति के अध्यक्ष हेमंत रसाने ने मंगलवार को स्पष्ट किया था कि अगले 15 दिनों में शहर की सड़कों को ठीक  कर दिया जाएगा। उसके बाद तत्काल प्रशासन को सभी खुदाई को  रोकने के निर्देश दिए।

    हेमंत रसाने ने कहा कि शहर वर्तमान में इसी तरह की जल योजना पर काम कर रहा है और जल निकासी लाइनें बिछा रहा है। हालांकि, इन कार्यों को करते समय प्रशासन से यह अपेक्षा की जाती थी कि वह इसे चरणों में करे। तदनुसार, यह ध्यान रखना आवश्यक था कि थोड़े से काम से सड़क तुरंत पूर्ववत हो जाए। हालांकि, यह स्थिति इसकी उपेक्षा के कारण उत्पन्न हुई है। प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि शहर में किसी भी परियोजना के लिए एक इंच भी जगह खोदे बिना खुदाई की गई सड़कों का शत-प्रतिशत निर्माण करें।

    प्रशासन से उम्मीद थी कि खुदाई के बाद सड़कों को पूर्ववत करने की योजना करें। हालांकि बड़ी संख्या में शिकायतें मिली हैं कि वास्तव में एक ही समय में कई कार्यों के लिए खुदाई की गई थी। जिसके बाद मरम्मत का काम ठीक से नहीं किया गया था। सभी उत्खनन, खुदाई को रोकने और खोदी गई सड़कों की पुन: खुदाई पर चर्चा करने के लिए एक जरूरी बैठक बुलाई गई है।

    - हेमंत रसाने, अध्यक्ष, स्थायी समिति