उल्हासनगर में भाजपा छोड़ने का सिलसिला जारी, NCP मेें शामिल हुए कई नेता

    उल्हासनगर: उल्हासनगर भाजपा (Ulhasnagar BJP) का स्थानीय नेतृत्व भले ही यह दावा करे कि पार्टी में सब कुछ ठीक है और पार्टी के 20 से 22 नगरसेवकों (Corporators) का पार्टी छोड़कर जाना और उनके द्वारा एनसीपी (NCP) में प्रवेश करना झूठ बात है, लेकिन जिस तरह से भाजपा (BJP) के 20  नगरसेवकों के लोग एनसीपी के स्थानीय नेतृत्व से  मिल जुल रहे है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि कानूनी अड़चनों के कारण एनसीपी में प्रवेश करने वाले नगरसेवक अपने पद से इस्तीफा (Resignation) नहीं दे रहे, लेकिन भाजपा में  पिछले दिनों पतझड़ का जो सिलसिला शुरू हुआ है वह अब रुकने का नाम नहीं ले रहा है। 

    शनिवार और रविवार इस तरह दो दिन में  भाजपा के 3 बड़े निष्ठावान पदाधिकारियों द्वारा पार्टी और पद से इस्तीफा देने से उल्हासनगर में भाजपा की ताकत कम होने लगी है। शनिवार को उल्हासनगर शहर जिला भाजपा के उपाध्यक्ष आनंद शिंदे ने पार्टी छोड़ी और रविवार की सुबह भाजपा वाल्मीकि प्रकोष्ठ के शहर जिला अध्यक्ष रवि करौतिया और भाजपा जिला राजस्थानी सेल के अध्यक्ष दिनेश छंगाणी ने पार्टी से नाता तोड़ लिया। इन तीनों ने भाजपा छोड़ने का कारण भाजपा के वर्तमान जिला अध्यक्ष जमनु पुरसवानी को ठहराया है। 

    आगामी चुनाव में हो सकता है पार्टी पर असर

    अपने इस्तीफे वाले पत्र में स्पष्ट रूप से इन नेताओं ने लिखा है कि भाजपा अध्यक्ष जमनु पुरसवानी संगठन के लिए कुछ नहीं करते है वह सारा समय महानगरपालिका में और महानगरपालिका से संबंधित ठेका लेने और दिलाने में व्यस्त रहते है।  भाजपा वाल्मीकि सेल  के रवि करौतिया का पार्टी से इस्तीफा देने से पार्टी से वाल्मीकि समाज के सेंकडों लोगों का मोहभंग होना स्वाभाविक है। वहीं राजस्थानी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष छंगाणी का जाना भी महानगरपालिका के आगामी चुनाव में भाजपा को प्रभावित कर सकता है। 

    एनसीपी में इनकमिंग जोरों पर 

    एनसीपी के जिला अध्यक्ष पद की कमान प्रदेश नेतृत्व द्वारा पूर्व महापौर पंचम ओमी कालानी के हाथों सौपने के बाद एनसीपी में इनकमिंग लगातार शुरू है। राकांपा नेता संतोष पांडेय के नेतृत्व में भाजपा के निष्ठावान पदाधिकारी आनंद शिंदे ने शहर भाजपा से अपनी नाराजगी दिखाते हुए राकांपा में प्रवेश किया। इस अवसर पर राजेश निकम और उर्मिला गुप्ता अन्य एनसीपी के कार्यकता मौजूद थे।

    आनंद शिंदे, रवि करौतिया और दिनेश छंगाणी ने पार्टी से इस्तीफा दिया है यह बात सही है, लेकिन इस्तीफा देने का कारण यह बताना की उन्होंने भाजपा के जिला अध्यक्ष जमनु पुरसवानी की अकार्यक्षमता के कारण वह पार्टी छोड़ रहे यह बहाना उचित नहीं है। जमनु पुरसवानी पार्टी के वफादारों और संगठन के लिए काम करने वाले व्यक्ति है। महानगरपालिका के आगामी चुनावों के मद्दे नजर कुछ लोग दलबदल कर रहे है। भाजपा राष्ट्रीय पार्टी है। कुछ लोगों के चले जाने से भाजपा पर कोई असर नहीं पड़ेगा। महानगरपालिका चुनाव में पार्टी अच्छा प्रदर्शन करेंगी।

    -प्रदीप रामचंदानी, प्रवक्ता, उल्हासनगर जिला भाजपा