वालधुनी नदी में केमिकल, कचरा, डाला तो होगी दंडात्मक कार्रवाई

  • नपा द्वारा जनजागृति के लिए लगाए बैनर

अबंरनाथ. ‘मेरी पृथ्वी मेरी वसुंधरा’ का नारा देते देते हुए स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 के अंतर्गत शिवमंदिर के पास से बहने वाली वालधुनी नदी (Valdhuni) के संवर्धन संरक्षण के लिए स्थानीय नपा द्वारा शिवमंदिर परिसर और वालधुनी नदी (Valdhuni River) की स्वच्छता (Cleanliness) के लक्ष्य को लेकर अभियान शुरू किया गया है। 

शिवमंदिर के पास नदी पात्र में डाली पाइपलाइन में निर्माल्य, दशक्रिया विधि सामग्री आदि फंस जाने की वजह से आयी अड़चनें दूर करने का कार्य शुरू किया गया है. नदी में जाने वाले नालों की दिशा मुख्य पाइप में जोड़ा गया है. अंबरनाथ में कई जगह वालधुनी नदी में केमिकल, कचरा, रसायन डालने पर दंडात्मक कार्रवाई किए जाने के बैनर नपा ने लगाए हैं। नदी में प्रदूषण पर शासन प्रशासन सख्त होता दिखाई दे रहा है।

शुक्रवार को एमपीसीबी (Maharashtra Pollution Control Board) सदस्य सचिव ए. शिंगारे ने वालधुनी नदी के उगमस्थल आनंदनगर स्थित एमआईडीसी का बंद सीईटीपी, औधोगिक क्षेत्र से निकले विविध नाले, नालियों का निरीक्षण किया, इस तरह उन्होंने तकरीबन 6 घंटे का समय यहां दिया. इस दौरे में उनके साथ एमआईडीसी, नपा अधिकारी के पदाधिकारियों व पुलिस प्रशासन मौजूद रहे।

अंबरनाथ का बंद सीईटीपी और एसटीपी प्लांट भी देखा गया, जगह-जगह  केमिकल कारखानेदारों द्वारा किस तरह से नदी में रसायन छोड़कर प्रदूषित किया गया, उसकी जांच भी उक्त दौरे में हुई. साथ ही फॉरेस्ट नाका से खाड़ी तक की 17.5 किलोमीटर पाइपलाइन के कार्य का भी जायजा सदस्य सचिव शिंगारे ने  लिया। उक्त अवसर पर वालधुनी नदी उगमस्थान पर शुद्ध जल देखकर और 1 किलोमीटर के अंतर पर पर ही रसायन मिलाकर प्रदूषित किए जाने को लेकर  शिंगारे द्वारा फ़टकार लगाने की जानकारी सामने आयी है।