Shining walls with poems in Navi Mumbai

    नवी मुंबई: शहर के सौंदर्यीकरण में विभिन्न अवधारणाओं को लागू किया जा रहा है, जिसके तहत शहर के मुख्य चौकों, भीड़-भाड़ वाले स्थानों, सड़कों (Roads) पर देखने के स्थानों में पूरक चित्रों के साथ प्रसिद्ध मराठी कवियों (Marathi Poets) की कविताओं की पंक्तियों का चयन कर उन्हें शहर के 52 स्थानों की दीवारों (Walls) पर लिखाया गया है। जिसे देखकर कवि अशोक नायगांवकर ने नवीमुंबई महानगरपालिका (Navi Mumbai Municipal Corporation) की तारीफ की।

    गौरतलब है कि स्वच्छ सर्वेक्षण के तहत महानगरपालिका कमिश्नर अभिजीत बांगर के मार्गदर्शन में नवी मुंबई का सौंदर्यीकरण करने में कोई कोर कसर बाकी नहीं रखी गई है। 17 दिसंबर 2021 को कवि अशोक नायगांवकर ने नवी मुंबई जैसे शहर में मराठी भाषा की महिमा को दर्शाने वाली कविताओं की पंक्तियों को विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शित करने का सुझाव महानगरपालिका कमिश्नर बांगर को दिया था। जिसे सकारात्मक तौर से लेते हुए महानगरपालिका कमिश्नर ने सुलेखनकार अच्युत पालव के माध्यम से कविताओं की पंक्तियों को दीवारों पर लिखवाने का काम कराया। इसके लिए जेजे स्कूल ऑफ आर्ट्स, रचना संसद, रहेजा आर्ट स्कूल के छात्र कलाकारों के साथ-साथ स्थानीय चित्रकारों का सहयोग भी लिया गया। जिसे देखकर कवि अशोक नायगांवकर ने महानगरपालिका के इस कार्य की सराहना की।

    दिघा से बेलापुर तक दीवारों पर कविताएं लिखी गई

    गौरतलब है कि नवी मुंबई महानगरपालिका कमिश्नर अभिजीत बांगर के मार्गदर्शन में महानगरपालिका के तहत आने वाले की दिघा से लेकर बेलापुर तक दीवारों को कविताओं से सजाया गया है। इन दीवारों पर संत ज्ञानेश्वर, संत तुकाराम, केशवसुत, गोविंदाग्रज, कवि यशवंत, बी.सी. मर्ढेकर, बालकवि, साने गुरुजी, कुसुमाराज, विंदा करंदीकर, मंगेश पाडगांवकर, वसंत बापट, सुरेश भट, ग्रेस, नारायण सुर्वे, इंदिरा संत, बहिणाबाई, शांता शेलके, जी.डी. मदगुलकर, जगदीश खेबुडकर, नामदेव ढसाल जैसे कई प्रसिद्ध कवियों की प्रसिद्ध कविताओं की पंक्तियों को 52 स्थानों पर चित्रित किया गया है। जिसे देखकर कवि अशोक नायगांवकर ने कहा कि इन चित्रों के माध्यम से नवी मुंबई शहर को काव्य नगरी के रूप में प्रसिद्ध हो रही है।