TMC ready to stop child deaths in possible third wave of Corona

    ठाणे. ठाणे महानगरपालिका (Thane Municipal Corporation) बाल मृत्यु (Child Death) दर को समाप्त करने के लिए लगातार प्रयत्न कर रहा है। ठाणे महानगरपालिका ने वैश्विक कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के संभावित तीसरी लहर (Third Wave) बाल मृत्यु को रोकने लिए हाल ही मैं नया प्लान तैयार किया है। इस प्लान के तहत बीमार बच्चों को स्पेशल ट्रीटमेंट और परिजनों को उचित मार्गदर्शन दिया जाएगा। उचित मार्गदर्शन और बच्चों को वक्त पर स्पेशल ट्रीटमेंट मिलने से बाल मृत्यु की दर में कमी आएगी ऐसा महानगरपालिका अधिकारियों का मानना है।

    गौरतलब है कि ठाणे महानगरपालिका की सीमा में पिछले 4 महीनों में कुल 16 बच्चों की मौत हो चुकी है। उक्त आंकड़ा बेहद कम है लेकिन महानगरपालिका ने बालमृत्यु दर का पूरी तरह से अंत करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की बैठक ली और नया प्लान बनाया है। इस प्लान के तहत ठाणे महानगरपालिका बच्चों के जन्म के वक्त ही उनके परिजनों को उनके बच्चों से संबंधित मार्गदर्शन देगी। इतना ही नहीं महानगरपालिका स्वास्थ्य अधिकारियों को कोई भी लापरवाही न बरतने की चेतावनी दी है। अतिरिक्त आयुक्त संदीप मालवी ने बताया कि बाल मृत्युदर का पूरी तरह से अंत करने के लिए यह निर्णय लिया गया है। महानगरपालिका निरंतर प्रयास कर रही है कि महानगरपालिका की सीमा में एक भी बालकों की मृत्यु न हो। उन्होंने कहा कि भविष्य में ठाणे महानगरपालिका  इस लक्ष्य को हासिल करेगी।

    इस दौरान वैद्यकीय आरोग्य अधिकारी डॉ.भीमराव जाधव, माता बाल संगोपन अधिकारी डॉ. राणी शिंदे, स्त्रीरोगतज्ञ डॉ. सुनीता उबाले, बालरोगतज्ञ डॉ. शैलजा पोतदार, ठाणे अकॅडमी ऑफ पिडियाट्रिक्स के डॉ. राम गुंडाले, स्त्रीरोगतज्ञ डॉ. संजय किनरे सहित महानगर पालिका के सभी आरोग्य केंद्र और निजी अस्पतालों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। 

    चार महीने में 16 बालकों की हुई मौत

    यदि आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो अप्रैल से लेकर जुलाई तक इन चार महीनों में कोरोना संक्रमण के दौरान कुल 16 बच्चों को अपनी जान गवानी पड़ी है। इस बैठक में अप्रैल 2021 से जुलाई 2021 तक की कालावधि में हुए बाल मृत्यु के संदर्भ में विस्तार पूर्वक चर्चा हुई और ठाणे महानगरपालिका क्षेत्र में अप्रैल 2021 में एक, मई महीने में 2, जून महीने में 7 और जुलाई महीने में 6 बाल मृत्यु होने का मामला सामने आया। इन सभी बाल मौतों का वैद्यकीय कारण समिति के समक्ष पेश करने का आदेश भी अतिरिक्त आयुक्त मालवी ने स्वास्थ्य विभाग को दिया।