To make responsible citizens, students should be told stories of virtue and courtesy from childhood Governor Bhagat Singh Koshyari

    ठाणे. बचपन (Childhood) से ही विद्यार्थियों (Students) को सद्गुण और शिष्टाचार की कहानियां सुनाकर अच्छी शिक्षा दी जानी चाहिए, ताकि उन्हें जिम्मेदार नागरिक बनाया जा सके। इसके लिए सर्वप्रथम शैक्षणिक संस्थानों को पहल करनी चाहिए। यह बातें राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Governor Bhagat Singh Koshyari) ने एक कार्यक्रम में कहीं। राज्यपाल कोश्यारी द्वारा ठाणे जिले (Thane District) के तालुका के किन्हावली में स्थित विद्या प्रसारक मंडल के विधि महाविद्यालय, स्नातकोत्तर शाखा का उद्घाटन और महाविद्यालय के विस्तारित भवन का शिलान्यास किया गया। इस समारोह मंच पर केंद्रीय पंचायत राज राज्य मंत्री कपिल पाटिल, राज्य के उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत, विधायक दौलत दरोडा, पूर्व विधायक गोटीराम पवार, पांडुरंग बरोरा, वीपीएम अध्यक्ष अरविंद भानुशाली और मंत्रालय विधान समाचार संघ के अध्यक्ष मंदार पारकर मौजूद थे।

    इस दौरान राज्यपाल कोश्यारी ने कहा कि वीपीएम संस्थान के माध्यम से दूरस्थ क्षेत्रों में शिक्षा का अच्छा कार्य किया जा रहा है और संस्थान का लॉ कॉलेज इस क्षेत्र में छात्रों को सुविधा प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि छात्रों को समाज में कम उम्र से ही नैतिकता और शिष्टाचार को विकसित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अच्छे चरित्र के विकास के लिए जरूरी है कि बच्चों को कम उम्र से ही अच्छी शिक्षा दी जाए। राज्यपाल ने समाज में महिलाओं के प्रति सम्मान की भावना पैदा करते हुए कहा कि माताएं और बहनें उनकी रीढ़ हैं। साथ ही महिलाओं को बड़ी संख्या में सामाजिक कार्यों में शामिल कर उन्हें समाज की मुख्य धारा में लाने का प्रयास किया जाना चाहिए। राज्यपाल ने कहा कि वर्तमान में लड़कियां हर क्षेत्र में लड़कों से आगे हैं।

    दूर-दराज इलाकों में शिक्षा की गंगा पहुंचाने पर हो रहा काम : केंद्रीय राज्य मंत्री 

     केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री कपिल पाटिल ने कहा कि संगठन के माध्यम से दूर-दराज और आदिवासी क्षेत्रों में शिक्षा पहुंचाने का काम संस्था कर रही है। पाटिल ने कहा कि देश में 2 लाख 55 हजार ग्राम पंचायतों को केंद्रीय पंचायत राज विभाग के माध्यम से एप के माध्यम से जोड़ा जा रहा है। यह एप हर राज्य की भाषा में उपलब्ध होगा। इसके माध्यम से केंद्र की 23 योजनाओं का लाभ देने का प्रयास किया जा रहा है। राज्य और केंद्र सरकार के समन्वय के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को लाभ देने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस पहल के तहत ठाणे जिले के 10 गांवों को प्रायोगिक आधार पर चुना गया है।

    महाविद्यालयों के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया राष्ट्रीय छात्र सेना विषय : उदय सामंत

    उच्च और तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री उदय सामंत ने कहा कि राज्य के सभी कॉलेजों में राष्ट्रीय छात्र सेना विषय को पाठ्यक्रम में शामिल करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय छात्र सेना के छात्रों ने कोरोना काल में कोविड योद्धाओं की भूमिका निभाई है। आगे उन्होंने कहा कि किन्हावली क्षेत्र में कृषि महाविद्यालय बनने में सहयोग करेंगे।

    राज्यपाल के हाथों हुआ सम्मान

    इस अवसर पर केंद्रीय राज्य मंत्री कपिल पाटिल, कोंकण रेंज के उप महानिदेशक संजय मोहिते, ठाणे के जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर और शहापुर के उपविभागीय अधीक्षक नवनाथ धवले को राज्यपाल द्वारा सम्मानित किया गया। इस बीच राज्यपाल सुबह ठाणे शासकीय विश्राम गृह पहुंचे। इस दौरान जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर, पुलिस आयुक्त जगजीत सिंह, ठाणे जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ। भाऊसाहेब दागड़े, निवासी उपजिलाधिकारी सुदाम परदेशी, उपजिलाधिकारी गोपीनाथ ठोम्ब्रे, राज्यपाल के निजी सचिव उल्हास मुंगेकर, विशेष अभियान अधिकारी अमरेंद्र सिंह, जनसंपर्क अधिकारी उमेश काशीकर उपस्थित थे।