BMC sent notice to Narayan Rane, accused of allegedly making 'unauthorized' changes at his Mumbai bungalow
File Pic

    सिंधूदुर्ग: केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने हत्या के प्रयास से संबंधित मामले में अपने बेटे तथा भाजपा विधायक नितेश राणे की संभावित गिरफ्तारी को लेकर जारी अटकलों के बीच मंगलवार को दावा किया कि उनके बेटे को फंसाया जा रहा है और महाराष्ट्र की एमवीए सरकार सत्ता का दुरुपयोग कर रही है। महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग जिले में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए नारायण राणे ने कहा कि सिंधूदुर्ग जिला सहकारी बैंक चुनावों से पहले ये सब किया जा रहा है।

    केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि यदि सहकारी बैंक चुनावों में महा विकास आघाड़ी (एमवीए- जिसमें शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस शामिल हैं) जीत जाता है, तो उसे उसके नेताओं द्वारा की गई पिछली अनियमितताओं को छिपाने में मदद मिलेगी। उन्होंने पूछा कि डीजीपी समेत पुलिस के आला अधिकारी जिले में डेरा क्यों जमाए बैठे हैं।

    राणे ने संवाददाताओं से कहा, ”नितेश को मामले में झूठा फंसाया जा रहा है। (आईपीसी) की धारा 307 (हत्या का प्रयास) उस मामले में लगाई जाती है, जहां शिकायतकर्ता को चोटें आई हों। घटना के समय नितेश वहां नहीं था।” उन्होंने कहा, ”सिंधूदुर्ग जिला सहकारी बैंक चुनाव से पहले ये किया जा रहा है। राज्य सरकार सत्ता का दुरुपयोग कर रही है।”

    कोंकण क्षेत्र के सिंधूदुर्ग जिले की कंकावली विधानसभा सीट से विधायक नितेश राणे ने हत्या के प्रयास के एक मामले में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल कर किसी भी दंडात्मक कार्रवाई से राहत मांगी थी। यह मामला संतोष परब (44) नामक व्यक्ति पर कथित हमले से संबंधित है।

    नारायण राणे ने साल 2005 में शिवसेना छोड़ दी थी। कोंकण क्षेत्र में उनके और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (जो वर्तमान शिवसेना अध्यक्ष भी हैं) के बीच पिछले कुछ समय से तीखी प्रतिद्वंद्विता देखी गई है।(एजेंसी)