Corona Free
File Photo

  • 1,318 ने दी कोरोना को मात
  • दिसंबर में मिले 1,171 बाधित

वर्धा. जिले में कोरोना पर नियंत्रण पाने में प्रशासन काफी हद तक सफल दिखाई दे रहा है. गत माह की तुलना में दिसंबर में कोरोना मरीजों की संख्या में कमी देखने मिली. वहीं कोरोना मरीजों के ठीक होने का अनुपात काफी बढ़ गया. जबकि मृत्यु अनुपात में बड़ी मात्रा में कमी आयी है. दिसंबर माह में कुल 1,171 कोरोना संक्रमित पाए गए. जबकि 1,318 ने कोरोना को मात देने की जानकारी स्वास्थ्य प्रशासन ने दी.

मेरा परिवार-मेरी जिम्मेदारी अभियान

उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन के बाद शुरुआती  50 दिनों तक कोरोना को जिला प्रशासन ने रोके रखा. परंतु इसके बाद एक-एक कर कोरोना मरीज मिलने लगे. अगस्त, सितम्बर, अक्टूबर व नवम्बर माह में सर्वाधिक कोरोना मरीज पाए गए. इससे नागरिकों में दहशत व्याप्त थी. परिणामवश जिला प्रशासन ने कोरोना पर नियंत्रण पाने के लिए उचित कदम उठाए. मेरा परिवार मेरी जिम्मेदारी अभियान युध्दस्तर पर चलाया गया. फलस्वरुप दिसंबर में मरीजों की संख्या में बड़ी मात्रा में कमी आयी है. 1 दिसंबर से 31 दिसंबर तक जिले में कुल 1,171 कोरोना मरीज पाये गए. जबकि 1,318 मरीजों ने कोरोना को मात दी है.

स्वास्थ्य प्रशासन के अनुसार जिले का रिकवरी रेट 95 फीसदी तक बढ़ा है.  वहीं अब तक करीब 273 कोरोना मरीजों की मृत्यु हुई है.  इसमें दिसंबर माह में 23 मृत्यु दर्ज है. वर्तमान में कोरोना मृत्यु का अनुपात 2.65 फीसदी बताया गया है. पिछले तीन माह की तुलना में दिसंबर में कम मृत्यु दर्ज की गई है.  मृत्यु व कोरोना बाधितों की संख्या में कमी आने से नागरिक व प्रशासन भी राहत महसूस की.

प्रतिदिन 6,00 कोरोना की टेस्ट

जिले में प्रतिदिन 550 से 600 लोगों की कोरोना टेस्ट की जा रही है.  इसमें 400 से 450 की एंटीजन तथा 200 के करीब आरटीपीसीआर टेस्ट की जा रही है.  कोरोना की दूसरी लहर को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य प्रशासन मुस्तैद दिखाई दे रहा है. 

मृत्यु टालने दे रहे ध्यान : DHO

गत तीन माह की तुलना में दिसंबर में मृत्यु संख्या घटी है. आगामी दिनों में एक भी कोरोना मरीज की मृत्यु न हो इस ओर ध्यान दिया जा रहा. नागरिक सरकारी निर्देशों का पालन करें. स्वास्थ्य प्रशासन हर चुनौती से लढ़ने के लिए तैयार है. केवल नागरिकों का सहयोग जरूरी है.

-डा. अजय डवले, जिला स्वास्थ्य अधिकारी, जिप.