Yogi announces compensation for family and injured of deceased in Auraiya accident

  • धान हो या गन्ना, होगी सबकी क्षतिपूर्ति
  • सीएम का आदेश, हर प्रभावित किसान को मिले मुआवजा
  • दो लाख किसानों को होगी 68 करोड़ की क्षतिपूर्ति

लखनऊ : बारिश (Rain) के चलते धान और गन्ना (Paddy & Sugarcane) आदि फसलों (Crops) के हुए नुकसान का आकलन (Assessment) पूरा हो गया है। प्रदेश में करीब 2 लाख किसान ऐसे पाए गए हैं, जिनकी फसल हालिया अतिवृष्टि/बाढ़ (Floods) के कारण खराब हो गई।

कृषि (Agriculture) और राजस्व विभाग (Revenue Department) के सर्वेक्षण (Survey) के बाद अब जल्द ही मुआवजा वितरण (Compensation Distribution) भी शुरू हो जाएगा। रविवार को उच्चस्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री ने फसल क्षतिपूर्ति आकलन की प्रगति की समीक्षा की।

अधिकारियों ने बताया है कि बाढ़ और अतिवृष्टि से कृषि फसलों को हुए नुकसान का आकलन पूरा हो गया। करीब दो लाख किसान ऐसे चिन्हित हुए हैं, जिनकी कृषि उपज बाढ़ के चलते खराब हुई है। मुआवजे के एवज में इन किसानों को करीब 68 करोड़ की धनराशि दी जाएगी। सीएम ने कहा कि एक भी पात्र किसान क्षतिपूर्ति से वंचित न रहे। हर तरह की कृषि उपज के नुकसान की भरपाई की जाएगी।