Wasim Rizvi's will: I should be cremated according to Hindu rituals
File

    नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी (Wasim Rizvi Converts) ने इस्लाम (Islam) धर्म छोड़ दिया है। वह अब हिंदू बन गए हैं। राज्य के गाजियाबाद स्थित डासना मंदिर में यति नरसिंहानंद सरस्वती ने उन्हें सनातन धर्मं में शामिल कराया है। इस दौरान रिजवी ने कहा कि मुझे इस्लाम धर्म से बाहर किया गया है। हमारे सिर पर हर शुक्रवार को इनाम बढ़ाया जाता है। रिजवी का नया नाम अब जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा। 

    गौर हो कि वसीम रिजवी ने पहले ही ऐलान किया था कि वह सोमवार को इस्लाम धर्म छोड़कर सनातन धर्म अपनाएंगे। इस मौके पर यति नरसिंहानंद सरस्वती ने एक बयान में कहा कि हम वसीम रिजवी के सार्थ है। बताया जा रहा है कि रिजवी त्यागी बिरादरी से जुड़ेंगे। 

    गौरतलब है कि वसीम रिजवी ने हाल ही में अपनी वसीहत सार्वजनिक की थी। जिसमें उन्होंने कहा था कि मेरे मरने के बाद उन्हें दफनाया ना जाए, बल्कि हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया जाए। साथ ही उनके शरीर को भी जलाया जाये। रिजवी ने यति नरसिम्हानंद द्वारा उनकी चिता को अग्नि देने की भी इच्छा जाहिर की थी।