अद्भुत वास्तुकला और खूबसूरती से परिपूर्ण है भारत की ये जगहें

    नई दिल्ली : भारत अपनी खूबसूरती , संस्कृति और सभ्यता के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। प्राचीन समय से वास्तुकला और खूबसूरती का बेहतरीन नमूना यहां के स्मारक स्थलों में दीखता है । देशभर में कई ऐसे प्रमुख स्थल हैं , जिनकी गिनती विश्व की प्रमुख धरोहरों में की जाती हैं। इन जगहों पर हर साल पर्यटक देश भ्रमण के लिए आते हैं। हालांकि कोरोना महामारी की तिसरी लहर के चलते पर्यटन क्षेत्र पर व्यापक असर पड़ा है। सभी स्थलों समेत मंदिर ,मस्जिद ,चर्च और गुरुद्वारे अनिश्चित कल के लिए बंद कर दिए हैं। लेकिन अब कम हो रहे कोरोना मामलों को देखते हुए जल्द ही अनलॉक होने की संभावना है। तो चलिए जानते है भारत के इन खूबसूरत और वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध इन जगहों के बारे में…..

    1. वाराणसी घाट

    वाराणसी देवी देवताओं के लिए प्रसिद्ध है। यह शहर गंगा नदी के किनारे स्थित है। यह होने वाली संध्याकाल की आरती देखने लायक होती है। यहां कई घाट है , जो अपनी विशेषताओं के लिए प्रसिद्ध है। हर रोज हजारों की संख्या में पर्यटक वाराणसी घाट आते हैं। ऐसा मन जाता है कि , मणिकर्णिका घाट अंतिम संस्कार करने वाले से मृत व्यक्ति की आत्मा को मुक्ति मिल जाती है।

    2. लामायुरु मठ ( लेह )

    लामायुरू मठ तह हमारे देश का प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। लामायुरू मठ को मूनलैण्ड भी खा जाता है। यह लेह से महज 127 किमी की दूरी पर स्थित है।इस जगह का नाम लामायुरु  गांव हैं।  दुनियाभर से लोग लामयूरू गांव घूमने आते है। हिंदी में इसे चाँद की जमीन कहा जाता है। यह गांव 3,510 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।  लामायुरू गावं में एक मठ भी है , जो आकर्षण का केंद्र है। जबकि , झील  की पीली-सफ़ेद मिट्टी बिलकुल चाँद कि जमिन की तरह दीखती है। पूर्णिमा की रात को जब चाँद की रौशनी इस पर पड़ती है , तो मिट्टी चाँद जैसी चमकने और दिखने लगती है।

    3. मीनाक्षी मंदिर ( मदुरई )

    यह मंदिर मदुरई में स्थित है। इस मंदिर में वास्तुकला कायह मंदिर मदुरई में स्थित है। इस मंदिर में वास्तुकला का अद्भुत नजारा देखने को मिलता है। मंदिर में मां पार्वती की प्रतिमा स्थापित है। इतिहासकारों की मानें तो छठी शताब्दी में मीनाक्षी मंदिर का निर्माण करवाया गया था।   नजारा देखने को मिलता है। मंदिर में माँ पार्वती की प्रतिमा स्थापित है। इतिहासकारों की मानें तो छठी शताब्दी में मीनाक्षी मंदिर का निर्माण करवाया गया था। यह मंदिर अपनी खूबसूरती  और अद्भुत वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है।