और एक पाजिटिव मरीज की वृद्धि, जिलाधिकारी दारव्हा, नेर के प्रतिबंधित क्षेत्र में

यवतमाल. यवतमाल शहर निवासी एक मरीज की रिपोर्ट पाजिटिव मिलने से पाजिटिव मरीजों की संख्या में एक से वृद्धि हुई है. एक 48 वर्षिय व्यक्ति की रिपोर्ट आज 20 जून को पाजिटिव प्राप्त हुआ है. जिले में वर्तमान में एक्टिव पाजिटिव मरीजों की संख्या 52 हो गई होकर वैद्यकिय महावद्यिालय के आइसोलेशन वार्ड में 35 लोग भर्ती है. जिले में अबतक पाजिटिव मरीजों की संख्या 215 तो इनमें से 156 लोग स्वस्थ्य होकर घर गए है. तो सात कोरोनाबाधित मरीजों की मृत्यु हुई है. आज प्राप्त कुल 235 रिपोर्ट में से एक पाजिटिव तो 229 की रिपोर्ट निगेटिव निकली है.

पांच सैंपलों की रिपोर्ट निदान न लगने से फिर से परीक्षण किया जाएगा. निगेटिव निकली रिपोर्ट में सरकारी वैद्यकिय महावद्यिालय की पांच रिपोर्ट, कोविड केअर सेंटर की 72, यवतमाल के संस्थात्मक क्वारंटाइन कक्ष के छह, दारव्हा के 46, नेर के 65, दग्रिस के 22 एवं पुसद की 13 रिपोर्ट का समावेश है. वैद्यकिय महावद्यिालय ने शुरुवात से अबतक 3363 सैंपल परीक्षण के लिए भेजे होकर इनमें से 3323 प्राप्त तो 40 अप्राप्त है. जिले में अबतक 3108 की रिपोर्ट निगेटिव निकली है. बॉक्सर्‍ जिलाधिकारी का दारव्हा, नेर के प्रतिबंधित क्षेत्र में भेट, जिले के ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना का संक्रमण होने से जिलाधिकारी एम. डी. सिंह ने क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित किया है. जिलाधिकारी हर दिन प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं और यहां की स्थिति पर गंभीरता से ध्यान दे रहे हैं. शनिवार को, उन्होंने दारव्हा एवं नेर में प्रतिबंधित क्षेत्र का दौरा किया और जायजा लिया. अबतक दारव्हा में सात पाजिटिव मरीजों के निकट संपर्क के 31 लोग पाजिटिव हुए है. तो यहां के 178 की रिपोर्ट निगेटिव मिली है.

पाजिटिव मरीजों के संपर्क में और 200 लोगों के सैंपल परीक्षण के लिए भेजने के नर्दिेश जिलाधिकारी ने संबंधित यंत्रणा को दिए है. तथा संपर्क के लगभग 400 लोगों को पांच स्थान के कोविड केअर सेंटर में भर्ती करें, ऐसी सूचना भी उन्होंने दी. उल्लेखनिय है कि आपदा व्यवस्थापन कानून अंतर्गत जिलाधिकारी को प्राप्त अधिकारों के अनुसार उन्होंने दारव्हा में एक नई टीम कार्यरत की है. इनमें उपविभागीय अधिकारी के रूप में उपजिलाधिकारी(राजस्व) दलवी, तहसीलदार के रूप में डा. संतोष डोईफोडे, तहसील स्वास्थ्य अधिकारी के रूप में डा. बेग तथा चंदेल एवं केदार शामिल है. यह टीम 24 बाई 7 कार्यतत्पर रहकर कार्य करेंगे. ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना का प्रकोप बढ रहा होने से नागरिकों ने आवश्यक देखभाल करनी चाहिए. सभी सरकारी यंत्रणा नागरिकों के स्वास्थ्य के लिए दिनरात काम कर रही है.

इसलिए, नागरिकों के लिए सरकार-प्रशासन के सभी नर्दिेशों का पालन करना अनिवार्य है. नागरिकों को अपने स्वास्थ्य और दूसरों के स्वास्थ्य के लिए अपने घरों को अनावश्यक रुप से नहीं छोडना चाहिए. कहीं पर भी भीड ना करें तथा सोशल डस्टिन्सिंग के नियमों का कडाई से पालन किया जाना चाहिए. अत्यावश्यक वस्तूओं की खरीदी के लिए बाहर निकलते समय चेरहे पर मास्क आवश्यक लगाए, बार-बार हाथ साबून या हैंडवाश से साफ धोएं तथा सैनिटाइजर का इस्तमाल करना चाहिए. कोरोना के खिलाफ जंग में नागरिकों के सहयोग के बिना नहीं जीता जा सकता, इसलिए सभी नागरिकों को प्रशासन के साथ सहयोग करना चाहिए, ऐसा जिलाधिकारी एम. डी. सिंह ने अपील की है.