corona

    • जीएमसी, निजी व डीसीएचसी में कुल 2100 बेड उपलब्ध

    यवतमाल. जिले में कोरोनाबाधित मरीजों से अधिक स्वस्थ होनेवाले मरीजों की संख्या चौगनी है. जिले में विगत 24 घंटों में 22 नये पाजिटिव तो 79 कोरोनामुक्त हुए तो बुधवार को दो बाधितों की मौत हुई है. जिसमें गर्वनमेंट मेडिकल कालेज में 1 तो निजी अस्पताल में 1 की मरीज की मौत हुई है.

    जिला परिषद के स्वास्थ्य विभाग की और से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को कुल 3195 की रिपोर्ट प्राप्त हुई है. इनमें से 22 लोग नये से पाजिटिव निकले तो 3173 की रिपोर्ट निगेटिव मिली है. वर्तमान में जिले में 669 एक्टिव पाजिटिव होकर इनमें से अस्पताल में भर्ती 251 तो होम क्वारंटाइन 418 मरीज है. तथा अबतक कुल पाजिटिव मरीजों की संख्या 72,474 हो गई है. 24 घंटे में 79 लोग कोरोनामुक्त होने से जिले में स्वस्थ होनेवालों की कुल संख्या 70024 है.

    तो जिले में अबतक कुल 1781 कोरोनाबाधितों की मौत की संख्या दर्ज है. जिले में अबतक 6 लाख 56 हजार 805 टेस्ट हुई होकर उनमें से 5 लाख 83 हजार 583 निगेटिव की संख्या है. वर्तमान में जिले का पाजिटीविटी रेट 11.03 होकर दैनिक पाजिटीविटी 0.69 है तो मृत्युदर 2.46 है.

    आज मृतक मरीजों में गर्वनमेंट मेडिकल कालेज में उपचार ले रहें यवतमाल शहर के 62 वर्षीय महिला तो निजी अस्पताल में उमरखेड के 55 वर्षीय पुरुष की मौत हो गई है. पाजिटिव निकले 22 बाधितों 14 पुरुष एवं 8 महिला हैं. इनमें दारव्हा के 2, दिग्रस के 2,कलंब 3,  महागाव के 4,  पुसद के 1, उमरखेड के 3,  वणी के 1, यवतमाल के  5 तो झरीजामणी के 1 मरीज है.  

    जीएमसी, डीसीएचसी और निजी अस्पतालों में उपलब्ध 2100 बेड: जिले के गर्वनमेंट मेडिकल कॉलेज, 11 डेडिकेटेड कोविड स्वास्थ्य केंद्रों और 34 निजी कोविड अस्पतालों में बेडों की कुल संख्या 2279 है. इनमें से 179 बेड मरीजों के उपयोग में हैं और 2100 बेड उपलब्ध हैं. गर्वनमेंट मेडिकल कॉलेजों में कुल 577 बेड में से 74 बेड मरीजों के लिए उपयोग में होकर 503 बेड शेष है, 11 डीसीएचसी में कुल 526 बेड में से 58 मरीजों के उपयोग लिए तो 468 बेड शेष है और 34 निजी कोविड अस्पताल कुल 1176 बेडों में से 47 बेड उपयोग में और 1129 बेड शेष हैं.

    कोरोनावायरस रोगियों की दिन-प्रतिदिन बढ़ती संख्या को देखते हुए, नागरिकों को सरकार और प्रशासन के दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए. साथ ही नागरिकों ने अपनी प्रतिकार शक्ति बढाने के लिए टीकाकरण करने के साथ-साथ नियमित रूप से मास्क, सामाजिक दूरी, बार-बार हाथ धोना, भीड़ से बचना आदि को सख्ती का पालन किया जाना चाहिए, ऐसा आवाह‍्न जिलाधिकारी ने किया है.