Containment Zone

अमरावती. कोरोना लॉकडाउन के संकट से निपटने जिला परिषद का समाज कल्याण विभाग विकलांग, वरिष्ठ नागरिक और उनके परिवारों के साथ खडा रहा. ग्रामीण क्षेत्रों में विकलांगों के लिए एक हेल्पलाइन स्थापित कर एक आपातकालीन सहायता कक्ष शुरू किया गया. इस माध्यम से, जिले में 15 हजार 193 दिव्यांगों और उनके परिवारों को घर पर आवश्यक वस्तुओं, स्वास्थ्य संबंधी सामग्री मुहैया कराई गई.

अनाज, स्वास्थ कीट पहुंचाई

लॉकडाउन के दौरान, विकलांगों को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. इसके अलावा उन्हें अपनी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए भी दिक्कते झेलनी पडी. इस स्थिति को देखते हुए, जिला परिषद के समाज कल्याण विभाग और जिला आपदा प्रबंधन कक्ष ने अमरावती महानगरपालिका निगम क्षेत्र के 5850 विकलांगों को, नगर परिषद क्षेत्र के 2599 लोगों और ग्रामीण क्षेत्रों के 6744 लोगों को जीवनाआवश्यक वस्तुओं की किट घर पहुंच वितरित की.

इस किट में अनाज, दालें, तेल, चावल आदि की आपूर्ति की जाती थी. इसके अलावा कोरोना संक्रमण से विकलांगों को बचाने सेनेटाइज़र, मास्क, रूमाल, डेटॉल, फिनाइल वितरित किया गया. दो हजार मास्क, 1 हजार 944 सैनिटाइजर, 1 हजार 44 डेटॉल, फिनाइल मुहैया कराया गया. पेट भरने के लिए शारीरिक अक्षम 2,000 विकलांगों को जिला परिषद के दिव्यांग आपातकालीन सहायता कक्ष ने घर पहुंच भोजन देने की व्यवस्था की है.

विभिन्न सामाजिक संस्थाओं का योगदान

इसके लिए जिला परिषद के समाज कल्याण अधिकारी प्रशांत थोरात को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया था. साथ ही, ग्रामीण क्षेत्रों में 14 तहसीलों में संपर्क अधिकारियों को तत्काल सहायता प्राप्त करने की जिम्मेदारी दी गई. आमला विश्वेश्वर, हातखेडा (भातकुली), वाठोडा, नारायणपुर (तिवसा), गौलखेडा बाजार (चिखलदरा), कावली, बेलोरा धामक (नादंगाव खंडेश्‍वर), लेहगाव (मोर्शी), सार्सी, वाटपुर के दिव्यांगों को कोरोनाकाल में तत्काल जीवनाश्यक वस्तूएं मुहैया कराई गई. इसके लिए सामाजिक संस्थाओं की सहायता ली गई.

दी ब्लाईंड वेलफेअर एसोसिएशन, रोटरी क्लब ऑफ, अमरावती, विकलांग कल्याण संस्था, प्रहार विकलां क्रांति संगठन, रोटरी चैरीटेबल ट्रस्ट, ओसवाल आदि सामाजिक संस्थाओं समेत महानगरपालिका से ग्रामीणस्तर की 60 विभिन्न संस्थाओं ने अनाज, मास्क, सैनिटायजर, भोजन पैकेट वितरण कार्य में सहयोग दिया. अचलपुर की 15, तिवसा की 8, धामणगांव व चांदूर बाजार की 5-5, शेंदूरजनाघाट की 6 संस्थाओं ने जिला परिषद की आपात कक्ष से समन्वय रख जरुरतमंदों को सहायता पहुंचाने में सहयोग दिया.