साकोली की सीईओ ने दो दिनों में तैयार किया हरा-भरा बगीचा

साकोली (सं). काम करेगे दिखाएंगे ही, ऐसा दृढ़ संकल्प मन में लेकर अगर कोई भी काम किया गया तो केले, उस काम में सफलता जरूर मिलती है, कुछ ऐसा ही संकल्प लेकर साकोली नगर परिषद ने सीईओ ने एक बगीचे को हर भरा बनाने का संकल्प लिया और सिर्फ दो दिनों में एक बगीचे को ऐसा रूप प्रदान कर दिया, जिसे दूसरे लोग वर्षों तक काम करने के बावजूद वह रूप नहीं दिला पाते.  

साकोली शहर में नगरपरिषद के सामने यह बात किसी समस्या से कम नहीं थी कि महज दो दिनों में कैसे किसी बगीचे को हरा-भरा कैसा बनाया जाए, लेकिन नगर परिषद के सीईओ की सूझबूझ के कारण दो दिनों में ही हरा-भरा बगीचा बनाकर लोगों को चौंका दिया.

साकोली शहर में चार वर्ष से एक सामान्य सा बगीचा भी जनता को नहीं मिल सका.  एका लेडी सिंघम ने दो दिवस में नगरपरिषद के गेट के सामने दोनों ओर की जगह स्वच्छता करके वहां हरा-भरा बगीचा बना दिया और अपने संकल्प को पूरा विजयश्री प्राप्त की. साकोली में पत्रकारों से बातचीत के दौरान मुख्याधिकारी माधुरी मडावी ने कहा कि दो दिनों में बागीचा बनाने में सभी का सहयोग रहा है.

उन्होंने इस दौरान कि यह काम किसी एक के बस की बात नहीं है. मुख्याधिकारी ने कहा कि मैं तो इस बागीचे के निर्माण के लिए स्वच्छता कर्मचारी की लगातार कष्ट करने वाले प्रवृति, मजदूरों के अपार मेहनत करने की तैयारी शामिल है.

नगरपरिषद में आने वाले लोग जनता को प्राकृतिक सुंदरता का दर्शन हो, उन्हें हरा-भरा परिसर देखकर वृक्षारोपण करने की प्रेरणा मिले, इसी मुख्य संकल्प को लेकर हमने यह कार्य पूरा किया है, ऐसी जानकारी देते हुए मुख्याधिकारी ने कहा कि नगर परिषद का परिसर हरा-भरा बना रहे तथा यहां किसी भी तरह की गंदगी न हो, इसका सभी ध्यान रखें. इस दौरान में क्रीडा शिक्षक शाहीद कुरैशी, पत्रकार संजय साठवणे, डी. जी. रंगारी, साकोली मिडिया, नगरसेवक रवींद्र परशुरामकर, एड. मनीष कापगते आदि उपस्थित थे.