new year 2021

बस कुछ घंटों में ही नया साल आने वाला है। लेकिन ऐसी बहुत सी जगहें हैं जहाँ नया साल आ भी चुका है। वहीं लगभग हर देश में आने वाले साल का स्वागत बेहद अलग अंदाज़ से किया गया है। कहीं लोग पार्टी करते हैं, तो कहीं अतिश्बजियाँ होती हैं। आज हम आपको ऐसी ही कुछ जगहों के बारे में बताएँगे जहाँ न्यू इयर के आने से पहले कुछ अलग तरह की परंपरा निभाई जाती है। तो चलिए आपको बताएं दुनिया की अलग-अलग जगहों में कैसे किया जाता है नए साल का स्वागत…. 

12 बजे अंगूर खाने की परंपरा

यह परंपरा स्पेन की है, यहाँ रात के 12 बजते ही अंगूर खाया जाता है। यह सुनकर आपको हैरानी भी होगी कि ये कैसा नियम है। स्पेन में जैसे ही घड़ी में 12 बजते हैं और नए साल का आगमन होता है वैसे ही लोग अंगूरों की तरफ टूट पड़ते हैं। उनका ऐसा मानना है कि अंगूर खाने से आने वाले 12 महीने आपके लिए भाग्यशाली होता है, साथ ही बहुत सारी खुशियाँ भी लता है।

प्लेटें तोड़ने की परंपरा

यह परंपरा अगर डेनमार्क की है, यह आपको हैरान ज़रूर कर सकता है लेकिन डेनमार्क के लोगों के लिए यह आम है। यहां मान्यता है कि आने वाला साल खुशकिस्मती लेकर आएगा इसलिए डेनमार्क में लोग अपने परिवार और दोस्तों के घर जाते हैं और उनके दरवाज़े पर प्लेटें तोड़कर फेंक देते हैं। इसे एक तरह से शुभकामना संदेश भी माना जाता है। 

दाल खाने का नियम

ब्राज़ील में अनोखे तरीके से नए साल का स्वागत किया जाता है। नए साल में यहाँ के लोग मुख्य रूप से दाल बनाकर खाते हैं। दाल को धन दौलत का प्रतीक माना जाता है इसलिए यहाँ पर दाल खाने कि परंपरा है, ताकि नए साल में समृद्धि बनी रहे। 

घंटियां बजाने का नियम 

नए साल का स्वागत करने का सबका अलग अंदाज़ रहता है। अगर बात की जाए जापान और ​दक्षिण  कोरिया की तो यहाँ घंटी बजाने का नियम है। यहाँ जगह जगह पूर्व संध्या पर लोग घंटी बजाते हुए दिखते हैं। वहीं जापान में ऐसा माना जाता है कि 108 बार घंटी बजाना शुभ है इसलिए यहाँ नए साल का स्वागत घंटी बजाकर किया जाता है। 

चीज़ें फेंकने का नियम 

अमेरिका में टाइम्स स्क्वायर पर बेहद खास अंदाज़ अमे नए साल का जश्न मनाया जाता है। यहाँ सबकी निगाहें झंडे के लंबे खंभे से नीचे उतरती एक रंगीन गेंद पर होती है। यह गेंद एक तरह से आने वाले साल का काउंटडाउन का प्रतीक है। जिसके बाद कई अमेरिकी शहरों में लोग नववर्ष की पूर्व संध्या पर कुछ चीज़ें ऊंचाई से फेंक देते हैं।