व्हाट्सएप-टेलीग्राम पर शेयर का ज्ञान देनेवाले कारोबारियों और फर्जी दलालों के खिलाफ सेबी ने की कार्रवाई, इतने करोड़ का लगाया जुर्माना

Loading

मुंबई: सोशल मीडिया एप्लिकेशन टेलीग्राम और ट्विटर पर हो रहे स्टॉक सिफारिश घोटाले के मामले में सेबी ने बड़ी कार्रवाई की है। सेबी ने यहां कारोबार करने वाले छह लोगों पर 2.84 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। शेयर बाजार में भी उनकी पहुंच को रोक दिया गया है। सेबी के आदेश के मुताबिक, ये लोग शेयरों की कीमतों में हेरफेर कर अवैध रूप से मुनाफा कमाने के लिए सोशल मीडिया चैनलों का इस्तेमाल कर रहे थे। उसके लिए वे लोगों को शेयरों को लेकर गलत सलाह दे रहे थे।

व्यापारियों को अब मुनाफा नहीं दिखाना होगा

सेबी के आदेश के मुताबिक, इन जालसाजों को अपने खातों में ऐसी अवैध गतिविधियों से जुड़े मुनाफे को अलग-अलग करने को कहा गया है। साथ ही इन व्यक्तियों पर अगले छह महीने के लिए किसी भी तरह के लेन-देन पर रोक लगा दी गई है। ये 6 लोग बिना सेबी में रजिस्टर्ड हुए स्टॉक टिप्स दे रहे थे।

स्टॉक टिप्स से अवैध कमाई

स्टॉपेज का अंदाजा सोशल मीडिया या टीवी चैनलों पर सेबी द्वारा रजिस्टर्ड नहीं किए गए विश्लेषकों से लगाया जा रहा है। ये संगठन अवैध रूप से निवेशकों को धोखा दे रहे हैं और जल्दी पैसा बनाने के लिए स्टॉक टिप्स दे रहे हैं। सेबी ने इस संबंध में 37 पेज का आदेश जारी किया है।

यह कैसे काम करता है

ये व्यक्ति शुरू में स्मॉल कैप कंपनियों में पद ग्रहण कर रहे थे। उसके बाद सोशल मीडिया के जरिए इसी तरह से शेयरों के मूल्य में तत्काल वृद्धि का संकेत देते हुए निराधार संदेश भेजे जा रहे थे। अन्य लोगों को इन शेयरों को खरीदने के लिए प्रेरित करना।शेयर की कीमत में वृद्धि के बाद, उन्होंने इसका लाभ उठाने के लिए अपने शेयर बेच दिए। शिकायतों के एक दौर के बाद, सेबी ने कार्रवाई शुरू की। अपनी जांच के दौरान, सेबी ने पाया के इंट्राडे कॉल्स बुल्स रन इन्वेस्टमेंट एजुकेशन चैनल नामक एक टेलीग्राम चैनल के माध्यम से तथाकथित स्टॉक अनुशंसाओं का संदेश फैलाया। इस चैनल को कम समय में ही 50 हजार फॉलोअर्स मिल गए। सेबी के सदस्य एस. के मोहंती ने कहा कि नोटिशी द्वारा संचालित टेलीग्राम चैनल में निवेशकों की संख्या बढ़ रही है। जाहिर है ज्यादा निवेशकों वाले चैनल को ज्यादा फायदा होगा। इन लोगों ने 40 से अधिक वर्षों के निवेश के अनुभव का दावा किया और शोध विश्लेषक थे। वास्तव में, उन्हें इस समय यह भी बताया गया था कि यह सेबी के साथ पंजीकरण की प्रक्रिया में है।