Kaali poster
Photo - Twitter

    मुंबई : डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘काली’ के आपत्तिजनक पोस्टर (Documentary Film ‘Kali’ Objectionable Poster) पर विवाद दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है। इस फिल्म का पोस्टर लोगों को बिल्कुल भी पसंद नहीं आया और फिल्म मेकर्स लीना मणिमेकलाई (Leena Manimekalai) के प्रति उनका गुस्सा तो कम होने का नाम नहीं ले रहा है। एएनआई के रिपोर्ट्स के अनुसार, उत्तर प्रदेश में फिल्म मेकर्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। तो वहीं अब खबर यह भी है कि इस मामले में अब दिल्ली पुलिस ने भी निर्माता के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज कर लिया है।

    यूपी FIR

    एएनआई के रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपी पुलिस ने हिंदू देवी-देवताओं के अपमानजनक चित्र बनाने के आरोप में फिल्म ‘काली’ की निर्माता लीना मणिमेकलाई के खिलाफ आपराधिक साजिश, पूजा स्थल पर अपराध, जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को आहत करने के इरादे से शांति भंग करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की है।

    दिल्ली 

    बता दें, इसी कड़ी में दिल्ली पुलिस की IFSO इकाई ने भी ‘काली’ फिल्म से संबंधित एक विवादास्पद पोस्टर के संबंध में IPC की धारा 153A और 295A के तहत प्राथमिकी दर्ज की है।

    कनाडा 

    दरअसल, कनाडा (Canada) के ओटावा में भी भारतीय उच्च आयोग (High Commission of Indian Ottawa)ने इस पर अपनी आपत्ति जताई है। ट्विटर पर जारी किये गए उनके एक बयान के मुताबिक, उन्हें काली फिल्म के पोस्टर के आपत्तिजनक होने को लेकर शिकायत मिली थी। जिसपर भारत सरकार की ओर से भारतीय हाईकमीशन ने कनाडा सरकार और इवेंट के अधिकारियों से इस फिल्म के पोस्टर और फिल्म को प्रदर्शनी स्थल से हटाने के लिए कहा गया है। 

    आखिर क्यों है इस पोस्टर पर लोगों को आपत्ति?

     दरअसल, हाल ही में डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘काली’ का एक पोस्टर शेयर किया गया था। जिसमें देवी के एक अलग ही रूप को दिखाया गया है। बता दें कि इस पोस्टर में मां काली बनी अभिनेत्री के एक हाथ में सिगरेट तो दूसरे हाथ में एलजीबीटीक्यू का झंडा दिखाया गया है। देवी का यह रूप देख हर कोई हैरान रह गया है। यहां तक की सोशल मीडिया पर इस पोस्टर को लेकर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में काली के निर्माताओं को अरेस्ट करने की मांग की जा रही है। बता दें, काली फिल्म का पोस्टर 4 जुलाई को आया था।