halal
Pic Courtsey : New Indian Express

केरल. क्रिसमस (Christmas) के पहले अब केरल (Kerala) में हलाल मीट (Halal Meat) को लेकर नया विवाद सामने आया है। गौरतलब है कि भारत (India) में हलाल मीट खासी तादात में खाया और खिलाया जाता है। वहीं झटका मीट का भी सेवन होता है और इसकी खासी बिक्री भी होती है।

क्या है विवाद:

लेकिन अब वहीं केरल में हलाल मीट को लेकर एक नए प्रकार का विवादसामने आया है। खबर है कि कोच्चि में कुछ क्रिश्चियन्स ग्रुप्स (Christian Groups) ने हलाल मीट (Halal Meat) को बहिष्कार करने की अपील की है। यही नहीं कोच्चि स्थित क्रिश्चियन ग्रुप चर्च ऑक्जिलरी फॉर सोशल एक्शन (CASA) ने ईसाइयों से आग्रह किया है कि वे अब से हलाल मीट न खरीदें और ना ही इसका सेवन करें। 

हिंदू समूहों का समर्थन:

इधर कुछ हिंदू समूहों ने ईसाइयों द्वारा हलाल मीट के बहिष्कार के आह्वान के लिए अपना समर्थन दिया है। गौरतलब है कि केरल में हलाल विवाद ठीक क्रिसमस समारोह से पहले शुरू हुआ है, विदित हो कि राज्य में क्रिसमस को खासी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। वहीं अब CASA ने ईसाइयों से अपील की है कि हलाल मीट को अब उनकी टेबल पर हर्गिज नहीं नहीं लाया जाना चाहिए।

क्या कहना है IUML का:

लेकिन इस मामले पर मुस्लिम संगठन  (IUML)का कहना है कि बेवजह इस प्रकार का विवाद खड़ा किया जा रहा है। उनका कहना है कि, इसका मुख्य उद्देश्य राज्य में मुस्लिम मीट की दुकानों का बहिष्कार करना है। इस विवाद पर ऐसी और भी कई तरह की प्रतिक्रियाएं आई हैं। इसके उलट अब हिंदू समूहों का दावा है कि ईसाई और हिंदू दोनों को हलाल मांस बेचने के लिए यहाँ मजबूर किया जाता है वहीं ऐसे कई लोग भी हैं, जिनका अलग मत है। इनका कहना है कि खाने को इस तरीके से विभाजित करना ठीक नहीं है।