rana
File Photo

    नई दिल्ली. लोकसभा की विशेषाधिकार और नैतिकता समिति (Parliament’s Privileges and Ethics Committee) ने सांसद नवनीत राणा (Navneet Rana) की गिरफ्तारी के मामले में महाराष्ट्र के मुख्य सचिव मनु कुमार श्रीवास्तव (Maharashtra Chief Secretary Manu Kumar Srivastava) को तलब किया है। समिति ने उन्हें मौखिक साक्ष्य के लिए 15 जून को उनके सामने पेश होने को कहा है। इसी के साथ समिति ने महाराष्ट्र के डीजीपी रजनीश सेठ, मुंबई के पुलिस कमिश्नर संजय पांडे और भायखला जेल के सुपरिटेंडेंट यशवंत भानुदास को भी तलब किया है।

    विदित हो कि कुछ दिन पहले नवनीत राणा ने संसद की विशेषाधिकार और नैतिकता समिति के सामने उपरोक्त सभी लोगों का नाम लिया था। उन्होंने इन सभी लोगों पर बुरा बर्ताव करने और फंसाने का आरोप लगाया था। इस दौरान राणा ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और राज्य सभा सांसद संजय राउत के नाम का भी उल्लेख किया था।

    दरअसल, अप्रैल में नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के निजी आवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की घोषणा की थी, जिसे लेकर काफी विवाद हुआ था। शिव सैनिकों के प्रदर्शन के बाद इसी सिलसिले में मुंबई पुलिस ने पति-पत्नी के खिलाफ राजद्रोह तथा अन्य आरोपों के तहत प्राथमिकी दर्ज कर उन्हें 23 अप्रैल को गिरफ्तार कर लिया था। राणा दंपति को चार मई को मुंबई की एक अदालत ने इस मामले में जमानत दे दी थी। वहीं, गिरफ्तारी के मामले में नवनीत राणा ने 23 मई को संसद समिति के सामने अपनी बात रखी थी।

    उन्होंने कहा था कि, “मैंने समिति के सामने अपना पक्ष पेश किया और सभी विवरण उनके साथ साझा किए … किस प्रकार मेरे साथ दुर्व्यवहार किया गया और मेरे खिलाफ जातिवादी टिप्पणी की गई। मैंने सभी का नाम लिया है – महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से लेकर मुंबई पुलिस आयुक्त तक।”