हार पर बोली इमरती देवी- मैं हारी नहीं, बस एक सीट जीत नहीं सकी

भोपाल: मध्यप्रदेश उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta party) को जबरदस्त जीत मिली है. भाजपा ने 28 सीटों में से 19 सीटों पर जीत दर्ज की है. उपचुनाव में मिली जीत के वजह से राज्य में शिवराज सिंह चौहान (Jyotiraditya Scindia) सरकार को पूर्ण बहुमत मिल गया है. लेकिन इस चुनाव में झटका भी लगा है. सरकार में बाल विकास मंत्री इमरती देवी (Imarti Devi) अपना चुनाव हार गई है. इसी को लेकर बुधवार को पूर्व मंत्री ने कहा, “मैं हारी नहीं, बस एक सीट जीत नहीं सकी.”

इमरती देवी ने कहा, “मैं हारी नहीं हूं, मैंने सिर्फ एक सीट नहीं जीती है. भाजपा अभी भी मजबूत हो रही है और मुझे खुशी है कि शिवराज सिंह चौहान जी अब अपने शेष कार्यकाल को पूर्ण बहुमत के साथ पूरा कर पाएंगे.”

ज्ञात हो कि इमरती देवी उन 12 मंत्रियों में शामिल थी, जिन्होंने उपचुनाव लड़ा है. वह डबरा विधानसभा सीट से मैदान में थी. उनको कांग्रेस के सुरेश राजे के हाथो 7,633 मतों से हार का सामना करना पड़ा है. इमरती के साथ दो और मंत्री अदल सिंह कंसाना और गिरिराज डंडोतिया भी चुनाव हार गए है.

जितने वाला विधेयक पुतला बनाकर बैठेगा 

पूर्व मंत्री ने सीट से जितने वाले उम्मीदवार पर हमला बोलते हुए कहा, “डबरा में जो विधायक बना है पुतला बनकर बैठे हैं, ऐसा नहीं है कोई काम कर लेंगे. तनख्वाह जरूर बन गई. हैंडपंप का वॉशर भी नहीं डलवा पाएंगे, ये मैं आपसे वादा करती हूं.”

सिंधिया की  कट्टर समर्थक 

इमारती की पहचान ज्योतिरादित्य सिंधिया के कट्टर समर्थकों में से एक गिना जाता है. मार्च में सिंधिया के समर्थन में कमलनाथ सरकार से इस्तीफा देने वाले छह मंत्रियों में से इमरती देवी एक थी. वहीं सरकार में रहते हुए भी वह कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री कमलनाथ पर हमला बोलते रहती थी. इमरती देवी का हारना सिंधिया को एक बड़े झटके के रूप में माना जा रहा है.