Vaccination

  • 93,309 कर्मचारियों को लगेगी  

नागपुर. कोरोना वायरस प्रतिबंधक टीकाकरण मुहिम के पहले चरण में स्वास्थ्य विभाग में पंजीकृत ९3,3०९ शासकीय व निजी अस्पतालों में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मचारियों को वैक्सीन लगाया जाएगा. सीरम इंस्टीट्यूट पुणे से १.१४  लाख कोविशील्ड के डोज प्राप्त हुये हैं. विभाग के 3४ केंद्रों पर कोविशील्ड का टीका लगाया जाएगा. इस संबंध में विभाग द्वारा सभी तरह की तैयारी पूरी कर ली गई है. यह जानकारी सार्वजनिक स्वास्थ्य उपसंचालक डॉ. संजय जायसवाल ने दी.

कोरोना से लड़ने के लिए तैयार की गई कोविशील्ड वैक्सीन की पहली खेप तड़के सिटी में पहुंची. सिटी में गाड़ियां पहुंचने के बाद सभी जिलों के लिए विशेष शीतगृह वाहनों के माध्यम से रवाना कर दी गईं. विभाग में 3४ केंद्रों पर १६ जनवरी से स्वास्थ्य कर्मचारियों को पहला डोज दिया जाएगा. स्वास्थ्य विभाग द्वारा टीकाकरण मुहिम के लिए विशेष पथक तैयार किया गया है. इससे पहले विभाग द्वारा सभी जिलों में ‘ड्राई रन’ आयोजित कर पूर्व तैयारी की गई थी. प्रत्येक केंद्र पर हर दिन करीब 100 स्वास्थ्य कर्मचारियों को वैक्सीन दिया जाएगा. 

सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा नागपुर विभाग के लिए कोविशील्ड वैक्सीन के १.१४ डोज भेजे गये हैं. विभाग द्वारा सभी जिलों को पंजीकृत कर्मचारियों के अनुसार वितरण किया गया है. इसमें भंडारा जिले के लिए ९,५००, चंद्रपुर २०,000, गडचिरोली १२,000, गोंदिया १०,000, नागपुर ४२,000 तथा वर्धा जिले के लिए २०,५०० कोविशील्ड डोज का समावेश है.

सिटी में 5 केंद्रों पर व्यवस्था 

विभाग में वैक्सीनेशन के लिए कुल 34 केंद्र बनाए गये हैं. इनमें नागपुर जिले में १२ केंद्र बनाए गये हैं. सिटी में 5 और ग्रामीण क्षेत्रों में 7 केंद्रों का समावेश है. सिटी के 5 केंद्रों में डागा महिला अस्पताल, एम्स, शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय व अस्पताल, इंदिरा गांधी शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय व अस्पताल, महल स्थित डायग्नोसिस सेंटर में वैक्सीन दी जाएगी. जिले में उपजिला अस्पताल रामटेक, कामठी, ग्रामीण अस्पताल उमरेड, हिंगणा, काटोल, सावनेर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गोंडखैरी का समावेश है.

ग्रामीण भाग में ९,१६९ स्वास्थ्य कर्मचारियों को वैक्सीन दिया जाएगा. ड्राई रन के दौरान वैक्सीन देने के बाद होने वाले संभावित साइड इफेक्ट का भी मॉक ड्रिल किया गया था. यही वजह है कि अब प्रशासन पूरी तरह से तैयार है. जिन कर्मचारियों को वैक्सीन लगाया जाना है, उनमें उत्साह है. साथ ही मन में समाया एक तरह का डर भी निकल जाएगा. वैक्सीन लगवाने के बाद भी सावधानी और सकर्तता बरतना आवश्यक है. लापरवाही बरतने पर पूरी मेहनत पर पानी फिर सकता है.