Rogayo Office Fire

  • कार्यालय जलकर खाक

नागपुर. सिविल लाइन्स की प्रशासकीय इमारत क्र. 2 में स्थित महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना कार्यालय में रविवार की सुबह आग लग गई. देखते ही देखते आग ने पूरे कार्यालय को घेर लिया. खबर मिलते ही दमकल विभाग घटनास्थल पर पहुंचा. भारी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया, लेकिन तब तक पूरा कार्यालय जलकर खाक हो चुका था. इमारत के पहले माले पर रोगायो आयुक्त का कार्यालय है. सुबह 8.30 बजे के दौरान इमारत में तैनात सुरक्षा गार्ड चौबे को कार्यालय की खिड़की से धुआं निकलता दिखाई दिया. धुआं फैलता देख चौबे ने घटना की जानकारी अग्निशमन विभाग को दी.

खबर मिलते ही सीएफओ उचके, फायर अफसर, सुनील डोकरे, तुषार बाराहाते और शालिक कोठे अपने दल केसाथ घटनास्थल पर पहुंचे. शुरुआत में सिविल फायर स्टेशन से 2 वाहन बुलाए गए, लेकिन आग लगातार बढ़ती ही जा रही थी. परिसर में धुआं फैलने के कारण पहले अग्निशमन दल ने एल्युमिनियम की सिढ़ी लगाकर खिड़की से आग बुझाने का प्रयास किया. इसके बाद फायर एग्जिट से दमकलकर्मियों ने इमारत के भीतर प्रवेश किया. दोनों तरफ से आग बुझाने का काम शुरू किया गया.

लपटों को काबू में करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी. करीब 11 बजे के दौरान आग पर पूरी तरह काबू पाया गया, लेकिन तब तक कंप्यूटर, फर्निचर, फॉल्स सीलिंग, फाइलें, पार्टिशन, फैन और लाइट सब कुछ जलकर खाक हो गया था. बताया जाता है कि यहां बड़े पैमाने पर मनरेगा से जुड़े मामलों और आवेदनों की फाइलें रखी हुई थी. क्या जला और क्या बचा इसकी जांच होनी बाकी है.

आग लगने का कारण पता नहीं चल पाया है. शॉर्ट सर्किट होने का अनुमान लगाया जा रहा है. सदर पुलिस ने भी मौके पर पहुंचकर पंचनामा किया. दमकल विभाग के गणेश राजुरकर, दिनेश लोणकर, विकास ठाकरे, रुपेश मानके और दिनकर गायधने ने आग बुझाने के लिए अथक परिश्रम किए.