First oxygen plant of PMC to be built in Dalvi hospital, 1700 liters of oxygen per minute will be ready

    पुणे. पुणे महानगरपालिका (Pune Municipal Corporation) समेत पूरा राज्य ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी को लेकर जूझ रहा है। सभी ओऱ ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। फिर भी यह समस्या जस की तस थी, लेकिन अब पुणे महानगरपालिका ने एक कदम आगे बढाकर खुद का ऑक्सीजन प्लांट बनाने की तैयारी शुरू कर दी थी। अब महानगरपालिका का पहला ऑक्सीजन प्लांट दलवी अस्पताल (Dalvi Hospital) में बनेगा। उसके लिए पीएमसी को सीएसआर के तहत निधि प्राप्त हुआ है। इस प्लांट के तहत पीएमसी प्रति मिनट 1700 लीटर का ऑक्सीजन तैयार करेगी। जिससे 150 बेड्स को ऑक्सीजन को मिल सकता है। आगामी दो दिनों में यह प्लांट शुरू होगा। ऐसी जानकारी पीएमसी अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल ने दी। 

    पहले से ही कोरोना पीड़ितों की संख्या में जबरदस्त वृद्धि हुई है। मरीजों के इलाज के लिए सुविधाओं की कमी है। पुणे शहर पिछले दो दिनों से ऑक्सीजन की कमी का सामना कर रहा है।  ऑक्सीजन की इस कमी के कारण कोरोना रोगियों को दूसरे अस्पताल में स्थानांतरित करने का समय आया। हालांकि, ऑक्सीजन की कमी के कारण, शहर के छोटे अस्पतालों ने कोरोना मरीजों को स्वीकार करना बंद कर दिया है। वह क्षेत्र के एक और (बड़े) अस्पताल में उसे भर्ती किए बिना सलाह दे रहे है। इसके अलावा पुणे के 120 अस्पतालों में से 40 से 50 अस्पतालों में ऐसी स्थिति देखी जा रही है। इस बीच, ऑक्सीजन की कमी ने मरीजों को ठीक करना मुश्किल बना दिया है। अगर अस्पताल से किसी मरीज को शिफ्ट करने का समय हो तो रिश्तेदारों द्वारा तोड़फोड़  के मामले भी सामने आए हैं। इसलिए इन छोटे अस्पतालों ने मरीजों को भर्ती नहीं करने का फैसला किया है।  इसको लेकर अब महानगरपालिका द्वारा गंभीर कदम उठाए गए हैं। मनपा द्वारा अस्पतालों को ऑक्सीजन ऑडिट करने के भी निर्देश दिए गए थे। 

    सीएसआर के तहत मिला निधि 

    अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल की मानो तो ऑक्सीजन प्लांट बनाने को लेकर महानगरपालिका ने तैयारी शुरू की थी। इसके अनुसार धारा 67 क के तहत प्रस्ताव बनाना जारी है। उसके लिए तीन जगह भी तैयार की गई है। पहले बानेर में प्लांट बनाया जाएगा। साथ ही हम सीएसआर के माध्यम से भी खोज कर रहे थे। इसके अनुसार हमें REC लिमिटेड कंपनी का प्रतिसाद मिला। उसे मंजूरी भी मिली। उसके तहत 2 करोड़ 21 लाख का निधि प्राप्त हुआ है। उसके अनुसार, हमने कंपनी के साथ करार किया है। इससे मनपा को कोई खर्चा नहीं आएगा। अग्रवाल के अनुसार अब महानगरपालिका का पहला ऑक्सीजन प्लांट दलवी अस्पताल में बनेगा। इस प्लांट के तहत महापलिका प्रति मिनट 1700 लीटर का ऑक्सीजन तैयार करेगी। प्लांट के साथ ही 150 kv का जेनेरेटर भी होगा। जिससे 150 से 170 बेड्स को ऑक्सीजन को मिल सकता है। अग्रवाल ने कहा कि आगामी दो दिनों में यह प्लांट शुरू होगा। महानगरपालिका के गणेश कला क्रीड़ा केंद्र और ईएसआईसी कोविड सेंटर के ऑक्सीजन बेड के लिए इसका इस्तेमाल किया जाएगा। अब यह मनपा का प्लांट होने के कारण मनपा लगातार ऑक्सीजन तैयार करेगी। इससे लोगों को राहत मिलेगी। 

    पुणे महानगरपालिका ने एक कदम आगे बढ़ाकर खुद का ऑक्सीजन प्लांट बनाने की तैयारी शुरू कर दी थी। इसके अनुसार अब महानगरपालिका का पहला ऑक्सीजन प्लांट दलवी अस्पताल में बनेगा। उसके लिए महानगरपालिका को सीएसआर के तहत निधि प्राप्त हुआ है। इस प्लांट के तहत महानगरपालिका प्रति मिनट 1700 लीटर का ऑक्सीजन तैयार करेगी। जिससे 150-170 बेड्स को ऑक्सीजन को मिल सकता है। आगामी दो दिनों में यह प्लांट शुरू होगा।

    -रूबल अग्रवाल, अतिरिक्त आयुक्त, पुणे महानगरपालिका