PMPM busses

    पुणे. पीएमपीएमएल (PMPML) बस चालक (Bus Driver) की हत्या (Murder) की गुत्थी (Mystery) को सुलझाते हुए पुणे पुलिस की क्राइम ब्रांच पुलिस ने वारदात उजागर होने के 24 घंटे  में चार आरोपियों (Accused) को गिरफ्तार किया। शराब पीने के दौरान पुराने झगड़े का बदला लेने के लिए आरोपी उसे सबक सिखाने चाहते थे। मगर मारपीट के दौरान पत्थर मार देने से उसकी मौत हो गई, ऐसा पुलिस जांच (Police Investigation) में सामने आया है।

    गिरफ्तार आरोपियों के नाम ऋषिकेश संजय बोरगाव (31), अक्षय हनमंत जाधव (21), प्रज्वल सचिन जाधव (20) और तुषार सूर्यकांत जगताप (21) हैं। उनका एक अन्य आरोपी साथी जो फरार हो गया है, उसकी तलाश जारी है। इस घटना में गौतम उर्फ अमोल मच्छिंद्र सालुंखे (29) की हत्या की गई है। इस वारदात को लेकर लोणी कालभोर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है।

    पुलिस के मुताबिक, गौतम उर्फ अमोल सालुंखे पीएमपीएमएल का बस चालक था। पिछले 4 साल से वह नौकरी कर रहा था। शनिवार रात ड्यूटी खत्म होने के बाद वो गायब हो गया। रविवार की सुबह लोणीकालभोर परिसर में उसका शव मिला। उसकी शिनाख्त होने के बाद एक पीएमपीएमएल चालक की हत्या से शहर में खलबली मच गई। स्थानीय और क्राइम ब्रांच की पुलिस टीम जांच में जुट गई। क्राइम ब्रांच यूनिट 6 के पुलिस नाईक नितीन मुंडे और नितीन शिंदे ने हडपसर परिसर में सीसीटीवी फुटेज की जांच की। इसमें पता चला कि यह वारदात ऋषिकेश बोरगाव और उसके साथियों ने की। छानबीन करने पर जानकारी मिली की हत्या करने के बाद आरोपी उस्मानाबाद जिले के उमरगा भाग गया। जिसके अनुसार टीम ने उसे वहां जाकर एक लॉज से हिरासत में लिया। उससे पूछताछ के बाद उसने हत्या कबूली की।

    गौतम उर्फ अमोल और आरोपी बोरगाव एक ही गांव में रहते हैं। बोरगाव की गांव में लड़ाई हुई थी। इस मामले में एफआईआर दर्ज करते हुए उससे मारपीट करनेवाले आरोपी को गिरफ्तार किया था। इस आरोपी को जमानत दिलाने में गौतम ने मदद की थी। उसका गुस्सा बोरगांव के मन में था। इसपर उनके बीच विवाद भी हुआ था। इस दौरान शनिवार रात सभी शराब पीने के लिए बैठे थे। आरोपी गौतम को सबक सिखाना चाहते थे लेकिन शराब के नशे में पीटते वक्त उसके सिर पर पत्थर से मारने पर उसकी मौत हो गई।