Deepak Hooda

    नई दिल्ली: बीते रविवार को भारत और वेस्टइंडीज (IND vs WI 1st ODI) के बीच वनडे सीरीज का फल मैच खेला गया। यह मैच अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम (Narendra Modi Stadium) में खेला गया है। इस मैच में भारत को जीत हासिल हुई है। इसी के साथ भारत इस सीरीज में 1-0 से आगे भी चल रही है। इस मैच में टीम इंडिया (Team India) के गेंदबाजों के कमाल कर दिखाया था। लेकिन, इस मैच में कुछ ऐसा भी हुआ जिसकी वजह से कई तरह के सवाल भी खड़े हो गए हैं। 

    दीपक हुड्डा से नहीं कराई गई गेंदबाजी 

    दरअसल, पहले वनडे मैच में दीपक हुड्डा (Deepak Hooda) ने टीम इंडिया के लिए वनडे में डेब्यू किया। यह एक ऑलराउंडर हैं। उन्होंने इस मैच में बैटिंग भी की और टीम को जीत भी दिलाई। लेकिन, अब सवाल ये उठ रहा है कि इस मैच में दीपक से गेंदबाजी क्यों नहीं करवाई गई। इस समय भारत एक बेहतरीन ऑलराउंडर की तलाश में है, क्योंकि हार्दिक पांड्या इस समय चोटिल होने की वजह से टीम से बाहर चल रहे हैं ऐसे में दीपक से इस मैच में गेंदबाजी न करवाना सबके लिए हैरानी वाली बात थी।

    ऐसा हो चूका पहले भी 

    इससे पहले भी साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेली गई वनडे सीरीज में टीम इंडिया के लिए वेंकटेश अय्यर ने डेब्यू किया था। उस समय भी वेंकटेश को अपने डेब्यू मैच में बॉलिंग का मौका नहीं मिल पाया था, हालांकि बाद में उन्होंने जरूर बॉलिंग की थी। हालांकि उस सीरीज में उनका प्रदर्शन उतना प्रभावशाली नहीं था, जिसकी वजह से उन्हें इस सीरीज से बाहर किया गया है। लेकिन अय्यर टी-20 टीम का हिस्सा ज़रूर हैं। 

    ऐसे में ऑलराउंडर की तलाश में दीपक हुड्डा को टीम में जगह मिली, लेकिन डेब्यू मैच में उन्हें बॉलिंग नहीं मिली। जिसकी वजह से पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने भी सवाल खड़े किए। उन्होंने ट्विटर पर एक पोस्ट शेयर कर सवाल किया है। 

    आकाश चोपड़ा ने ट्वीट में लिखा कि, पहले वेंकटेश अय्यर और आज हुड्डा। इस तरह ऑलराउंडर बनाना मुश्किल होगा, अगर आप बॉलिंग करने का मौका नहीं देंगे। या फिर सेलेक्टर जिन ऑलराउंडर को मौका दे रहे हैं टीम मैनेजमेंट को उनकी बॉलिंग क्षमता पर भरोसा नहीं है।

    गेंदबाजों का रहा बोलबाला 

    बता दें कि, अहमदाबाद वनडे में डेब्यू करने वाले दीपक हुड्डा ने रविवार को 32 बॉल पर 26 रनों की पारी खेली थी। इस दौरान उन्होंने दो चौके भी लगाए। दीपक और सूर्यकुमार यादव की साझेदारी से टीम इंडिया को आसान से जीत हासिल हुई। इस मैच में भारत की ओर से गेंदबाजी कमाल की रही थी। युजवेंद्र चहल ने 4 विकेट अपने नाम किए। गेंदबाजों की शानदार गेंदबाजी की वजह से वेस्टइंडीज टीम महज़ 176 रन बनाकर ही ऑलआउट हो गई थी।