ashwin
File Photo

    -विनय कुमार

    भारत ने दो मैचों की टेस्ट सीरीज के दूसरे ऐलुर अंतिम टेस्ट में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में न्यूजीलैंड को बुरी तरह से धूल चटाई और सीरीज अपन नाम कर लिया। ‘विराट’सेना ने इस टेस्ट के चाैथे दिन ही न्यूजीलैंड को जीतता दिया और मैच 372 रनों से जीत लिया। यह सीरीज 1-0 से भारत के नाम हो गया। 

    गौरतलब है कि भारत ने न्यूजीलैंड को जीत के लिए 540 रनों का टारगेट दिया था। लेकिन, न्यूजीलैंड की टीम अपनी दूसरी पारी की बल्लेबाजी में सिर्फ़ 167 रनों पर ढेर हो गई। इस मैच की पहली पारी में न्यूजीलैंड की टीम सिर्फ 62 रनों पर ही सिमट गई थी। मुंबई में खेले गए इस टेस्ट मैच में जीत हासिल करने के साथ ही टीम इंडिया ने अपने नाम कई बड़े रिकाॅर्ड दर्ज़ करा लिए। इसके साथ ही, तीमनके अनुभवी स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin off-spinner Team India) भी कई दिग्गजों को पछाड़ते हुए विकटों के मामले में आगे बढ़ गए।

    हासिल की शानदार जीत

    टीम इंडिया की यह रनों में सबसे बड़ी जीत रही है। अपनी तरफ से दिए गए टारगेट का बचाव करते हुए भारतीय टीम ने इस ताज़ा टेस्ट मैच से करीब 6 साल पहले 2015 में दिल्ली के मैदान में खेले गए टेस्ट मैच में साउथ अफ्रीका को (India vs South Africa Test Match, 2015) 337 रनों से शिकस्त दी थी। वहीं, 2016 में इंदाैर में खेले गए टेस्ट मुकाबले में न्यूजीलैंड को 321 रनों से हराया था और जानदार जीत दर्ज़ की थी। और, आज से करीब 13 साल पहले 2008 में मोहाली के मैदान में भारतीय टीम ने आस्ट्रेलिया को (India vs Australia Test Match, 2008) 320 रनों से धूल चटाई थी। 

    टारगेट का बचाव करते हुए भारत की बड़ी जीत के आंकड़े

    • 372 रन, बनाम न्यूजीलैंड, मुंबई 2021
    • 337 रन, बनाम साउथ अफ्रीका, दिल्ली 2015
    • 321 रन, बनाम न्यूजीलैंड, इंदाैर 2016
    • 320 रन, बनाम ऑस्ट्रेलिया, मोहाली 2008

    इतनी बार 300 से ज्यादा रनों से हराया गया न्यूज़ीलैड

    मुंबई में खेले गए ताज़ा टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में न्यूजीलैंड को 372 रन की सबसे बड़ी हार दी है। इससे पहले न्यूजीलैंड को जोहानसबर्ग के मैदान में आज से करीब 14 साल पहले 2007 में साउथ अफ्रीका ने (New Zealand vs South Africa Test Match, Johannesburg, 2007)  358 रनों से हराया था।

    2016 में इंदाैर में खेले गए मैच में भी (India vs New Zealand, Indore Test Match, 2016) भारतीय टीम ने 321 रनों से धूल चटाई थी। पाकिस्तान के हाथों भी न्यूजीलैंड 2001 में 299 रनों से हार चुका है। इतिहास बता रहा है कि भारत ने अब तक के टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में न्यूजीलैंड के खिलाफ सबसे बड़ी जीत दर्ज की है। ये टीम इंडिया की न्यूजीलैंड के खिलाफ पांचवीं बड़ी जीत है।

    भारत की न्यूजीलैंड के खिलाफ 5वीं बड़ी फतह

    टीम इंडिया ने नागपुर में  खेले गए मैच में 2010 में न्यूजीलैंड को एक पारी और 198 रनों से शिकस्त दी थी।

    9 साल पहले हैदराबाद टेस्ट मैच में (India vs New Zealand Test Match Hyderabad 2012) न्यूजीलैंड को एक पारी और 115 रनों से हराया था।

     65 साल पहले चेन्नई में खेले गए टेस्ट मैच में भारत ने न्यूजीलैंड को (1956 में) एक पारी और 109 रनों से धूल चटाई थी।

     1995 में मुंबई में खेले गए मैच में भारत ने न्यूजीलैंड को एक पारी और 27 रनों से हराया था।

    अब 2021 में न्यूज़ीलैंड के भारत के ताज़ा दौरे के अंतिम टेस्ट मैच में मुंबई के वानखेडे स्टेडियम में भारत ने इतिहास की सबसे बड़ी हार, 372 रनों से शिकस्त दी है।

    रविचंद्रन अश्विन का चल गया जादू

    न्यूज़ीलैंड के खिलाफ 2 मैचों की खेली गई ताज़ा टेस्ट सीरीज में स्पिन गेंदबाजी के महारथी रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin off-spinner Team India) का जादू चल गया। रविचंद्रन अश्विन ने इस ताज़ा सीरीज में 14 विकेट हासिल किए। मुंबई में खेले गए टेस्ट मैच में उन्होंने उन्होंने 8 विकेट चटकाए।

    इसी के साथ अश्विन होम ग्राउंड में, यानी भारत के मैदानों में 300 टेस्ट विकेट हासिल करने वाले गेंदबाज बन गए। भारत के मैदानों में 300 विकेट चटकाने वाले वे दूसरे भारतीय गेंदबाज हो गए हैं। पूर्व भारतीय गेंदबाज अनिल कुंबले (Anil Kumble) ने 350 टेस्ट विकेट हासिल किए हैं। रविचंद्रन अनिल ने अनिल कुबंले को एक मामले में ज़रूर पछाड़ दिया। इतिहास गवाह है कि अनिल  कुंबले ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 52 मैचों में 300 विकेट चटकाए थे, जबकि अश्विन ने सिर्फ 49 मैचों में अपने 300 विकेट हासिल कर लिए हैं।

    श्रीलंका के महान गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) अपने होम ग्राउंड में 300 विकेट लेने के मामले में टॉप पर हैं। उन्होंने श्रीलंका के होम ग्राउंड में अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ 48 मैचों में 300 विकेट चटकाए थे।