What will be the role of Shivraj Singh Chauhan in BJP and MP, Shivraj Singh Chauhan, BJP, MP

Loading

नवभारत डिजिटल डेस्क: मध्य प्रदेश (MP) के नए मुख्यमंत्री का ऐलान चौंकाने वाला है, भारतीय जनता पार्टी (BJP) की तरफ से यह साफ कर दिया गया है कि मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री मोहन यादव होंगे। अब लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा है कि बीजेपी को मध्यप्रदेश में कई बार जीत दिलाने वाले शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) का क्या होगा? क्या उनके राजनीतिक करियर पर अब पूर्णविराम लगने वाला है या फिर उन्हें केंद्र में बड़ी जिम्मेदारी दी जाने वाली है। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि शिवराज सिंह चौहान के राजनीतिक कैरियर को लेकर इस समय मध्य प्रदेश सहित देश भर में चर्चा हो रही है। सभी यह जानना चाहते हैं कि बीजेपी में अब शिवराज सिंह चौहान किस भूमिका (Role) में होंगे। 

छत्तीसगढ़ में नए सीएम का ऐलान होने के बाद अब मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री कौन बनेगा इसे लेकर हो रही चर्चा पर भी विराम लग गया। पार्टी नेतृत्व में बनी तीन पर्यवेक्षकों की टीम ने भोपाल में विधायक दल की बैठक खत्म होने के बाद नये सीएम के नाम का एलान कर दिया। नये सीएम का नाम चुनने के लिए पर्यवेक्षकों की टीम दिल्ली से भोपाल भेजी गई थी। इस टीम में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर, आशा लाकड़ा और के लक्ष्मण शामिल थे, जिन्होंने मोहन यादव के नाम पर मुहर लगा दी। इसी के साथ अब ये साफ़ हो गया कि एमपी के मुख्यमंत्री मोहन यादव होंगे। 

केंद्र में बड़ी जिम्मेदारी या पद
मध्य प्रदेश में यदि शिवराज सिंह चौहान का नाम मुख्यमंत्री के लिए तय होता तो उनकी ये पांचवी ताजपोशी होती। लेकिन ऐसा नहीं हुआ और उनकी जगह सीएम पद की जिम्मेदारी मोहन यादव को दी जा रही है। लेकिन बीजेपी के आला नेता इस बात से भलीभांति परचित हैं कि मध्य प्रदेश में मामा का रसूख क्या है और उनकी लोकप्रियता कितनी है। पूर्व में सीएम के नाम का एलान न होने पर शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में बीजेपी के दफ्तर के सामने नारेबाजी शुरू कर दी थी। साल 2024 का लोकसभा चुनाव भी आने वाला है और बीजेपी इसमें जीत के लिए कोई कमी नहीं छोड़ने वाली है। माना जा रहा है कि पार्टी शिवराज सिंह को केंद्र में बुला सकती है और उन्हें बीजेपी में कोई बड़ा पद या फिर मंत्रालय में बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है।      

मामा के जीत का सफरनामा
मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी को प्रचंड जीत मिली और कांग्रेस को करारी हार मिली। इसी चुनाव में एक बार फिर से शिवराज सिंह चौहान ने अपने जीत का परचम लहराया।   उन्होंने कांग्रेस के अभिनेता से नेता बने विक्रम मस्तल को 1,04,974 मतों के अंतर से हराकर बुधनी सीट से छठी बार जीत हासिल की। लगातार चार बार सूबे के सीएम रहने वाले शिवराज सिंह चौहान ने पहली बार 1990 में बुधनी विधानसभा सीट से जीत हासिल की थी। फिर साल 2006 में उपचुनाव जीतने के बाद उन्होंने 2008, 2013 और 2018 में यह सीट अपने पास बरकरार रखी। चौहान 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में विदिशा से लोकसभा सांसद भी रहे। चौहान के समर्थक उन्हें प्यार से मामा कहते हैं।