अंबा नाले का पानी लोगों के घरों में, मनपा की नाला सफाई बेकार

    अमरावती. शहर के बीचों-बीच स्थित अंबा नाले की ना होने वाली सफाई इस वर्ष भी नागरिकों के लिए सिरदर्द व परेशानियों का कारण कायम है. नाले की सफाई पर मनपा ने अब तक करोड़ों रुपये से ज्यादा खर्च किए है. लेकिन नालों की स्थिति जस की तस कायम है. मुख्य नाले पर अंबादेवी मंदिर के पास कई खंबे हैं.

    इस नाले से बहने वाला सारा कचरा और कीचड़ उन्हीं खंभों में फंस कर जमा हो रहा है. जिससे इस वर्ष भी बारिश में नाले का पानी उफान मार कर फुटपाथों और सड़कों पर से बहते लोगों के घरों में घूसने का खतरा कायम है. मनपा की नाला सफाई किसी काम की नहीं है. नाला सफाई पर हुआ करोड़ों का खर्च बेकार जाने का आरोप पूर्व पार्षद प्रदीप बाजड ने लगाया. इस समस्या का ठोस प्रबंध करने की मांग भी रखी. 

    वडाली के पानी से उफान का खतरा

    शहर के वडाली तालाब के भर जाने के बाद पानी का पूरा बहाव अंबा नाले का रूख करता है. तालाब से बहता पानी और शहर का बारिश का पानी अंबा नाले में समाकर शहर में बाढ़ आ जाती है. अंबा नाले की सफाई यदी उचित रूप से की जाए, नाले का गाद पूर्ण रूप से साफ किया जाए तो बाढ़ के खतरे से बचा जा सकता है. अंबा नाले में बने पिल्लरों को हटाने के बाद ही इस समस्या से निजात मिल सकती है. जिस पर मनपा गंभीरता से विचार करें, यह मांग भी बाजड द्वारा मनपा प्रशासन से की गई.