corruption
File Photo

अमरावती. अमरावती नगर रचना विभाग के सह संचालक हनुमंत जगन्नाथ नाझिरकर समेत उनके परिवार के 4 सदस्यों के खिलाफ पुणे भ्रष्टाचार प्रतिबंधक ब्यूरो (एसीबी) ने बेहिसाब संपत्ति के मामले में पूना के अलंकार पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की है. इस मामले में हनुमंत नाझिरकर(53), उनकी पत्नी संगीता हनुमंत नाझिरकर (45) बेटी गीतांजलि हनुमंत नाझिरकर(23) तथा बेटा भाष्कर हनुमंत नाझिरकर (20) सभी निवासी स्वप्नशिल्प हाउसिंग सोसाइटी कोथरुड, पुणे में नामजद किया है. अमरावती भ्रष्टाचार प्रतिबंधक ब्यूरो ने गुरुवार को नाझिरकर के अमरावती में कठोरा रोड स्थित गुरुपुष्प अपार्टमेंट स्थित फ्लैट की तलाशी ली.

 पुणे ACB की जांच
पुलिस सूत्रों के अनुसार इस शिकायत में 23 जनवरी 1986 से लेकर 31 दिसंबर 2017 तक की बेहिसाब संपत्ति की शिकायत की गई थी. शिकायत के अनुसार इसमें वर्ष 2002-03 के बीच 1, 44,734, 2015-16 में  2 करोड़ 45 लाख 25 हजार 345,  2016-17 में 3 करोड़ 55 लाख 2 हजार 638 तथा 2017- 18 में 1,11,530 की बेहिसाब संपत्ति की शिकायत की थी, जिसकी पुणे एसीबी की जांच अधिकारी सीमा मेहेदले ने की. जांच के बाद 18 जून को  पुणे एसीबी की ओर से अलंकार पुलिस स्टेशन में भ्रष्टाचार की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. 

कठोरा रोड स्थित फ्लैट की तलाशी
पूना एसीबी पुलिस अधीक्षक राजेश बनसोडे के मार्गदर्शन में डीवायएसपी वर्षारानी पाटिल जांच कर रही है, जिनकी सूचना पर गुरुवार को अमरावती के एसीबी के पुलिस निरीक्षक राहुल तसरे ने कठोरा रोड स्थित गुरुपुष्प अपार्टमेंट में उनके फ्लैट की तलाशी ली, लेकिन यहां से कुछ नहीं मिला.  इस बारे में पुणे एसीबी को जानकारी दी गई है.  नाझिरकर इस फ्लैट में किराए से रहते थे. सप्ताह में 2 से 3 दिन यहां ठहर थे, जिसके बाद पुणे चले जाते थे. लॉकडाउन के बाद से वे पुणे में ही हैं.