Rape
Representative Image

अमरावती. 28 वर्षीय विधवा महिला को कैटरिंग के काम के बहाने राजस्थान ले जाकर 70,000 रुपए में बेच डालने का सनसनीखेज मामला गाडगेनगर में सामने आया है. इस मानव तस्करी के मामले में गाडगेनगर पुलिस ने आरोपी सैयद इमरान उर्फ राजा सैयद अकील (37, मौलाना आजाद कालोनी) को हिरासत में लिया है. जबकि आरोपी रवि अमरसिंह धारिया तथा नवलसिंह सिसोदिया फरार है. दोनों मध्य प्रदेश के इंदौर व राजस्थान के रहने वाले है. 

मध्यप्रदेश और राजस्थान से जुड़े तार
28 वर्षीय महिला अपने 4 बच्चो के साथ गाडगेनगर के रमाबाई आंबेडकरनगर में रहती है तथा कैटरिंग का काम करती है. 28 फरवरी को यह महिला कैटरिंग के काम पर गई थी, लेकिन देर शाम तक नहीं लौटी, जिसके चलते परिजनों ने उसकी मिसिंग रिपोर्ट गाडगेनगर थाने में दर्ज करायी. यह महिला कबाड़ भी बेचा करती थी. अक्सर कबाड़ को आरोपी इमरान के ऑटो से ले जाने का काम करती थी. इस दौरान पुलिस जांच में यह तथ्य सामने आया कि महिला का परिचित ऑटो चालक सैयद इमरान उसे कर्ज दिलाने के बहाने मध्यप्रदेश के इंदौर ले गया था. पैसों की जरूरत होने से इमरान ने उसे यह बताया कि इंदौर में रवि धारिया नामक शख्स उससें विवाह करेगा और उसे विवाह के बाद 50,000 देगा. 28 फरवरी को दोनों इंदौर के लिए रवाना हुए.

70,000 में हुई सौदेबाजी
रवि धारिया से महिला को मिलवाया, लेकिन उसने विवाह नहीं किया, बल्कि उसे अपने साथ राजस्थान के बांसवाड़ा ले गया. यहां नवलसिंह सिसोदिया नामक शख्स ने कई लड़कों को इस महिला को दिखाया, जिसमें से एक शख्स में उसे विवाह करने की तैयारी दिखाई, जिसके बदले महिला को 70,000 दिए गए, इस व्यवहार में इमरान को 5,000 मिले, जिसके बाद इमरान घर लौट आया.

राजस्थान जाएगा पुलिस दल
इस दौरान पुलिस ने रवि धारिया, नवलसिंह सिसोदिया के मोबाइल नंबर पर संपर्क करने पर उन्हें जानकारी मिली कि महिला की सौदेबाजी में इमरान को 30,000 मिले है. मानव तस्करी का यह तथ्य सामने आते ही गाड़गेनगर थानेदार मनीष ठाकरे ने आरोपी इमरान, रवि तथा नवल सिंह के खिलाफ अपहरण मानव तस्करी का मामला दर्ज किया है. आरोपी इमरान को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. पुलिस दल जल्द ही पीड़ित महिला को लाने के लिए राजस्थान जाएंगी.