जानें क्यों विधायक संजय सिरसाठ के खिलाफ अंबादास दानवे ने पुलिस में की शिकायत, यहां पढ़ें पूरी जानकारी

Loading

छत्रपति संभाजीनगर : दो दिन पूर्व शिंदे गुट की शिवसेना (Shiv Sena) के शहर में आयोजित एक सम्मेलन में छत्रपति संभाजीनगर पश्चिम (Chhatrapati Sambhajinagar West) के विधायक संजय सिरसाठ (MLA Sanjay Sirsath) ने उद्धव ठाकरे की शिवसेना की महिला नेता सुषमा अंधारे (Sushma Andhare) के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल करते हुए उनके बयानों की खिल्ली उड़ाई थी। वहीं, विधायक सिरसाठ ने राज्य के विरोधी पक्ष नेता अंबादास दानवे (Ambadas Danve) शिंदे गुट के संपर्क में होने का दावा भी किया था। इससे खफा विरोधी पक्ष नेता अंबादास दानवे ने विधायक सिरसाठ को सुषमा अंधारे के खिलाफ दिए बयान पर अपराध दर्ज करने की शिकायत शहर के क्रांति चौक पुलिस स्टेशन में दी है। वहीं, उद्धव ठाकरे की महिला शिवसैनिकों ने क्रांति चौक में विधायक सिरसाठ के खिलाफ आंदोलन करते हुए उनकी प्रतिमा को चप्पलों और जूतों से पीटा। इस आंदोलन में बड़ी संख्या में महिला उपस्थित थी। इधर विधायक सिरसाठ ने अपने बयान पर मीडिया के लोगों से बातचीत करते हुए कहा कि मैं डबल गेम करने वाला इंसान नहीं हूं। अंधारे के खिलाफ मैंने अपशब्दों का इस्तेमाल किया, यह सिध्द करने पर मैं अपने विधायक पद से इस्तीफा दूंगा। 

शहर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए दानवे ने कहा कि विधायक सिरसाठ द्वारा हमारी नेता सुषमा अंधारे के खिलाफ दिया बयान अपराधी प्रवृत्ति का और क्रिमिनल लॉ में बैठने वाला है। इसको लेकर अंबादास दानवे ने उद्धव ठाकरे के शिवसैनिकों के साथ क्रांति चौक पुलिस स्टेशन पहुंचकर शिकायत लिखायी।  शिकायत में दानवे ने विधायक सिरसाठ के खिलाफ विनयभंग का मामला दर्ज करने की मांग की। शिकायत में दानवे ने सिरसाठ के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 354 (अ ) के तहत मामला दर्ज करने की मांंग भी पुलिस से शिकायत में की। 

महिलाओं ने आक्रोशित होकर सिरसाठ की प्रतिमा को जूते-चप्पल से पीटा

उधर विधायक सिरसाठ द्वारा उद्धव बाल ठाकरे की शिवसेना की नेता सुषमा अंधारे के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल कर दिए बयान पर महिला आघाड़ी के पदाधिकारियों ने मंगलवार की दोपहर शहर के क्रांति चौक में जोरदार प्रदर्शन किया। इस अवसर पर सिरसाठ की प्रतिमा को जूतो चप्पलो से पीटने के अलावा मुंह पर गंदगी फैलाकर कड़ा निषेध किया गया। महिलाओं ने विधायक सिरसाठ के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करते हुए कहा कि पचास खोके खाकर बोके मस्ती में आए है। महिलाओं ने काले झंडे दिखाकर विधायक सिरसाठ के बयान का निषेध किया। 

महिला यूबीटी शिवसैनिकों ने राज्य सरकार को चेताया 

आंदोलन का नेतृत्व कर रही जिला संगठिका प्रतिभा जगताप ने राज्य सरकार को चेताते हुए कहा कि वे अपने मंत्रियों, विधायकों को महिलाओं का सम्मान करने के सीख दे। वरना, उद्धव बाल ठाकरे की महिला शिवसैनिकों की ओर से और कड़ा आंदोलन छेड़ा जाएगा। उन्होंने चेताते हुए कहा कि इसके बाद कोई महिला का अपमान करते हुए पाया गया तो हम उसे सबक सिखायेंगे। वक्त पड़ने पर हम महिलाओं के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल करने वालों के मुंह को कालिख पोतने से भी नहीं डरेंगे। आंदोलन में महिला पदाधिकारी अनिता मंत्री, दुर्गा भाटी, विद्या अग्निहोत्री, आशा दातार, सुनीता सोनवने, मीरा देशपांडे, मीरा पाटिल, सुचिता आंबेकर, सुकन्या भोसले, सारिका शर्मा, लता त्रिवेदी, मीना थोरवे, विद्या खाडिलकर, मीरा चव्हाण, स्मिता रामचन्द्र, छाया जाधव, मीनल राणे, सविता अंभोरे, विमल आव्हाड, नीता शेलके, मनीषा खरे, संगीता पवार, रेखा शाह, आरुती सांलुके, वैशाली आरट, कमल भरड, भारतीय हिवराले, मंदा भोकरे, रेणुका जोशी, कविता मठपति, प्रेम लता चंदन आदि उपस्थित थी। 

मैंने सुषमा अंधारे को तो बहन माना था 

अंधारे के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल करने का आरोप उद्धव बाल ठाकरे के शिवसैनिक विधायक सिरसाठ पर लगा रहे है। इन आरोपों को विधायक सिरसाठ ने सीरे से खारिज करते हुए कहा कि सुषमा अंधारे को ठाकरे गुट में प्रवेश करने से पूर्व मैंने घर पर बहन कहकर बुलाकर साड़ी और चोली भी दी थी।  बहन के बारे में मैं कैसे गलत शब्दों का इस्तेमाल कर सकता हूं। अंधारे यह मेरे बारे में संज्या छोड़ो इस तरह शब्दों का इस्तेमाल कर चुकी है। सुषमा के यह शब्द क्या सभ्य संस्कृति को जोड़कर है? सुषमा अंधारे को मेरे बारे में बोलने का अधिकार किसने दिया?। उन्होंने कहा कि अंधारे महिला आयोग के खिलाफ शिकायत जरुर करें। जांच होने पर सच्चाई सामने आएगी। सिरसाठ ने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी के सम्मेलन में पालकमंत्री संदिपान भुमरे और राज्य के कृषि मंत्री अब्दुल सत्तार की ओर इशारा करते हुए कहा था कि आपने क्या घोटाले किए, जिसके चलते सुषमा अंधारे आपके निर्वाचन क्षेत्र पहुंचकर सभा ले रही है। यह कहकर उन्होंने अपना दामन बचाने का प्रयास किया।