Aastik Kumar Pandey
File Photo

    औरंगाबाद : पिछले कई सालों से ग्रीष्मकालीन मौसम (Summer Season) में शहर में पेयजल आपूर्ति (Drinking Water Supply) की समस्या निर्माण होती है। सालों से महानगरपालिका (Municipal Corporation) में काम कर रहे महानगरपालिका अधिकारी शहर में निर्माण पेयजल आपूर्ति की किल्लत दूर करने में नाकाम हो रहे है। लेकिन, महानगरपालिका को महाराष्ट्र जीवन प्राधिकरण (Maharashtra Life Authority) (एमजेपी) के अधिकारियों की मदद मिलते ही हर्सूल और जायकवाडी से प्रति 5 एमएलडी और रोजा बाग से एक इस तरह 6 एमएलडी पानी की वृद्धि होने से  शहर की पेयजल आपूर्ति लगभग सूचारू हो  चुकी है। यह बात महानगरपालिका कमिश्नर आस्तिककुमार पांडेय (Municipal Commissioner Astik Kumar Pandey) ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए मानी। 

    शहर में 11 एमएलडी पानी की वृद्धि लगभग है

    पांडेय ने बताया कि शहर में निर्माण पेयजल आपूर्ति की समस्या हल करने के लिए सख्त कदम उठाने के निर्देश मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिए थे। उन्होंने पेयजल आपूर्ति विभाग के प्रधान सचीव संजीव जैसवाल को औरंगाबाद भेजा। उन्होंने महानगरपालिका, जिला प्रशासन और महाराष्ट्र जीवन प्राधिकरण के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर शहर की पेयजल आपूर्ति सूचारु करने के लिए कुछ निर्देश दिए थे। बल्कि, महानगरपालिका प्रशासन को इस कार्य की मदद के लिए एमजेपी के कार्यकारी अभियंता अजय सिंह पर कुछ जिम्मेदारी भी सौंपी थी। यह जिम्मेदारी पाने के बाद एमजेपी के अधिकारियों ने हर्सूल तालाब से नियमित होने वाले पानी की आपूर्ति में 5 एमएलडी पानी की वृद्धि की सूचना की। उस सूचना के अनुसार नई पाइप लाइन डालने का काम हाथ में लिया गया है। जिससे 5 एमएलडी पानी बढ़ेगा। रोजा बाग में स्थित नहर ए अंबरी की लाइन शुरु करने से एक एमएलडी पानी बढ़ा है। जायकवाडी से 350 एचपी का पंप और फारोला का 350 एचपी का पंप शुरु किया गया है। नए ट्रांसफार्मर कार्यान्वित कर 24 घंटे पंप शुरु रखने से शहर में  5 एमएलडी पानी की आवक बढ़ी है। शहर में 11 एमएलडी पानी की वृद्धि लगभग हुई है। वहीं, एमआईडीसी ने 3 एमएलडी पानी शुरु करने से एन-1 से 61 टैकरों से 285 राउंड पेयजल आपूर्ति हो रही है। जिससे संपूर्ण शहर में 5 दिन गैप देकर समान पेयजल आपूर्ति जारी होने का दावा महानगरपालिका कमिश्नर आस्तिककुमार पांडेय ने किया। कमिश्नर ने माना कि जो काम सालों से महानगरपालिका अधिकारी नहीं कर पाए, वह काम महाराष्ट्र जीवन प्राधिकरण के अधिकारियों ने चंद दिनों में कर दिखाया। 

    पेयजल आपूर्ति कटौती का प्रस्ताव अगले सप्ताह 

    जिले के पालकमंत्री सुभाष देसाई ने पेयजल आपूर्ति कर में 50 प्रतिशत कटौती करने का निर्देश दिया है। इस निर्देश को अमलीजामा पहनाने के लिए 8 अधिकारियों की समिति की गठित की गई है। ऑनलाइन सिस्टम में 2 हजार रुपए पेयजल आपूर्ति अपलोड करने के लिए उसमें बदलाव करना होगा। यह बदलाव और समिति की ओर से प्राप्त होने वाली सिफारिशों का अभ्यास कर अगले सप्ताह पेयजल आपूर्ति कटौती का प्रस्ताव लिया जाएगा। यह जानकारी भी प्रशासक पांडेय ने दी। उन्होंने कहा कि शहर में पेयजल आपूर्ति में कई बाधाएं होने से प्रशासन को मजबूरन 4 से 5 दिन गैप देकर पेयजल आपूर्ति करना पड रहा है। जिससे नागरिकों में पेयजल कर 4 हजार 50 रुपए होने से रोष था। नागरिक पेयजल कर में 50 प्रतिशत कटौती के लिए दबाव बनाए हुए थे। नागरिकों की मांग पर पालकमंत्री सुभाष देसाई ने पेयजल कर में 50 प्रतिशत कटौती के निर्देश दिए थे। उस निर्दश पर महानगरपालिका प्रशासन ने पेयजल कर 4 हजार 50 रुपए से 2 हजार रुपए करने हेतु नियोजन करना शुरु किया। उस दृष्टि से सॉफ्टवेयर में बदलाव करना  होगा। उसके लिए अतिरिक्त आयुक्त बीबी नेमाने के अध्यक्षता में 8 अधिकारियों की समिति गठित की गई है। 

    सड़कों के सर्वे का काम जारी

    कमिश्नर पांडेय ने बताया कि औरंगाबाद स्मार्ट सिटी के माध्यम से शहर में 118 सड़कों का निर्माण किया जाएगा। उन सड़कों का सर्वे जारी है। कई सड़कों का सर्वे हो चुका है। सर्वे होतेे ही सड़कों का काम शुरु होगा। उन्होंने विश्वास जताया कि जिस ठेकेदार को सड़कों का काम दिया गया है, वह आगामी 9 महीने में सड़कों का काम पूरा करेंगे।