In Maharashtra, 65 people died in just 9 months in wild animal attacks, 23 tigers died in 6 months, the state government said
File Photo

    नागभीड़: तहसील के येनोली माल के नागरिकों को रात होते ही रोजाना बाघ की गर्जना सुनने को मिल रही है. गांव के समीपस्थ बाघिन अपने तीन शावकों के साथ नजर आने के बाद से ही यहां ग्रामीणों में दहशत छायी हुई है. नागरिकों की मांग है कि वनविभाग यहां तत्काल उपाययोजना करें.

    विगत 14 मार्च 2022 को धामनगांव माल गांव के समीपस्थ कच्चेपार बिट के गोविंदपुर कक्ष क्र. 67 में अपनी बकरियां चराने गए वृध्द पर 9 माह के बाघ शावक ने हमला कर दिया था. इस घटना के बाद दूसरे दिन वनविभाग ने शार्पशूटर की सहायता से बाघ शावक को बेहोश कर पकडा गया.बाघ का शावक बेहद कमजोर और घायल होने से उसे आगे के उपचार के लिए चंद्रपुर भेज दिया गया था. 

    बाघिन शावक के गायब होने से उसके खोज में अब गांव के समीपस्थ ही भटक रही है. ऐसे में रात में रोजाना बाघिन की गर्जना की आवाज सुनने को मिल रही है. इससे ग्रामीणों में काफी दहशत छायी हुई है. इस समय महुआ बीनने का सीजन शुरू हो चुका है. महुएं के लालच में ग्रामीण खेतों और गांव के समीपस्थ जंगलों में जा रहे है.

    बाघिन और उसके शावकों के मौजूद होने के चलते वनविभाग ने ग्रामीणों को सख्त हिदायत दी है वे जंगल की ओर ना आये. ऐसे में सभी काफी दहशत में है. शाम होते ही लोग घरों में दुबक जा रहे है. गरमी शुरू हो जाने से किसानों मवेशियों को खुले में बांधना शुरू कर दिया है. खेत में रबी की फसल कटाई के लिए तैयारी है ऐसे में जंगली जानवरों से फसल का नुकसान या चोरी होने की संभावना बढ गई है.

    श्मशान भूमि के पास नजर आये पगमार्क

    येनोली माल में श्मशानभूमि के पास एक व्यक्ति को बाघ के दर्शन होने के नागरिकों में चर्चा है. गांव के नागरिकों ने श्मशान भूमि के पास जाकर निरीक्षण किया तो बाघ के पगमार्क नजर आये है.