uddhav-thackeray-group-chandrakant-khaire-on-devendra-fadnavis-congress

    मुंबई: महाराष्ट्र कर्नाटक सीमा विवाद (Maharashtra-Karnataka Border Dispute) को लेकर हर दिन नए नए बयान देखने को मिल रही है। वहीं, महाराष्ट्र के दो मंत्री कर्नाटक का दौरा करने वाले है। इस बीच राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadanvis) ने राज्य के मंत्रियों के कर्नाटक दौरे पर कहा कि, कर्नाटक के सीएम ने कहा तो महाराष्ट्र और न ही कर्नाटक इस मसले पर फैसला कर सकते हैं। यह SC है जो फैसला करेगा और हमें SC पर भरोसा है। हमारा देश आजाद है और हम जहां चाहें जा सकते हैं।  उन्होंने कहा कि, इस बारे में अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) लेंगे कि कर्नाटक के साथ राज्य के सीमा विवाद का समन्वय करने के लिए नियुक्त मंत्रियों को विवादित क्षेत्रों का दौरा करना चाहिए या नहीं।  

    फडणवीस ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘दो मंत्रियों, जिन्होंने पहले विवादित क्षेत्रों का दौरा करने की घोषणा की थी, को स्थानीय लोगों ने डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की पुण्यतिथि के अवसर पर आमंत्रित किया है। हमारी राय है कि विवादित क्षेत्रों में इस तरह के दौरे की व्यवस्था करके किसी भी कानूनी पेचीदगी से बचना चाहिए। हालांकि, मंत्रियों के दौरे पर अंतिम फैसला मुख्यमंत्री लेंगे।” 

    दौरा करने से कोई भी रोक नहीं सकता: फडणवीस 

    बेलगावी, कारवार और महाराष्ट्र तथा कर्नाटक सीमा पर स्थित कई अन्य गांवों पर किस राज्य का प्रशासनिक नियंत्रण होना चाहिये, इसको लेकर विवाद है। यह मुद्दा 1960 में महाराष्ट्र की स्थापना के बाद से उच्चतम न्यायालय में लंबित है। उन्होंने कहा, ‘‘किसी को भी किसी जगह पर जाने से रोका नहीं जाना चाहिए, क्योंकि हम एक स्वतंत्र देश हैं। हालांकि, विवादित क्षेत्र से जुड़ा मामला अब भी उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है और हम चाहते हैं कि इस मामले में आगे कोई जटिलता नहीं आए। यदि मंत्री ऐसा करने का निर्णय लेते हैं तो उन्हें विवादित क्षेत्रों का दौरा करने से कोई भी रोक नहीं सकता है।”  

    ‘… मंत्रियों को बेलगावी न भेजें’

    वहीं, आज पहले कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि वह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से कहेंगे की वह सीमा विवाद के बीच अपने मंत्रियों को बेलगावी न भेजें। यह कहते हुए कि कि महाराष्ट्र के साथ सीमा विवाद सुलझा लिया गया है, उन्होंने कहा कि उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है कि यदि महाराष्ट्र के नेता बेलगावी का दौरा करते हैं तो उन्हें क्या कदम उठाने हैं, उन्होंने आगे कहा कि सरकार भी उनपर कोई कानूनी कार्रवाई करने में संकोच नहीं करेगी।

    उन्हें कर्नाटक नहीं आना चाहिए- बोम्मई 

    इससे पहले कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई ने कहा कि, महाराष्ट्र के दोनों मंत्रियों के बेलगावी में प्रस्तावित दौरे को लेकर हमारे मुख्य सचिव ने महाराष्ट्र के मुख्य सचिव को चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने कहा है कि इस तरह के माहौल में उन्हें यहां नहीं आना चाहिए क्योंकि ऐसे में यहां स्थितियां बिगड़ सकती हैं। इसके बावजूद वे यहां आने की कह रहे हैं, जो ठीक नहीं है। उल्लेखनीय है कि, महाराष्ट्र के मंत्री चंद्रकांत पाटिल और शंभूराज देसाई 6 दिसंबर को बेलगावी जाने वाले हैं, वह वहां महाराष्ट्र एकीकरण समिति के कार्यकर्ताओं से मुलाकात का और सीमा मुद्दे पर बातचीत का कार्यक्रम प्रस्तावित है। जिस पर सीएम ने प्रतिक्रिया दी थी।