Irrigation by bringing water from bucket, the couple's struggle to save paddy crop
File Photo

गोंदिया. जलसंकट पर मात करने के लिए राज्य की तत्कालीन फडणवीस सरकार ने जलयुक्त परिसर अभियान क्रियान्वित किया था. योजना का उद्देश्य अधिकाधिक जमीन सिंचाई में लाना था. इस अभियान से 1 लाख 72 हजार 185 हेक्टेयर क्षेत्र सिंचाई में आया है. इसका लाभ जिले के किसानों को मिला है.

उल्लेखनीय है कि तत्कालीन सरकार ने 2015-16 में जलयुक्त परिसर योजना लागू की थी. इसके माध्यम से पिछले 4 वर्षों में जिले के 399 ग्राम वाटर न्यूट्रल हो गए हैं. करीब 1 लाख 72 हजार 185 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की गई. 2015-16 में योजना शुरू होते ही जिले के 94 ग्रामों का चयन कर उन्हें भी शत प्रतिशत जलयुक्त किया गया है.

सन 2017-18 में योजना के माध्यम से गांव वाटर न्यूट्रल हुए. इसी तरह 2018-19 में चयन किए गए 165 ग्राम भी जलयुक्त बनाए गए हैं. जिले में पिछले 5 वर्षों में 399 ग्रामों का चयन कर उन ग्रामों में 9 हजार 48 कार्य किए गए है. जल संवर्धन के विभिन्न कामों से जिले के 399 ग्राम जलयुक्त बन गए हैं जिससे 86 हजार 93 टीसीएम पानी जमा हो गया. वहीं 1 लाख 72 हजार 185 हेक्टेयर क्षेत्र योजना के माध्यम से सिंचित क्षेत्र हो गया है.