shinde-raj thackeray
एकनाथ शिंदे-राज ठाकरे

Loading

नई दिल्ली/मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) से मिली बड़ी खबर के अनुसार, यहां राजधानी मुंबई (Mumbai) में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के प्रमुख राज ठाकरे (Raj Thackeray) ने राज्य के मुख्यमंत्री  एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) से उनके आवास पर एक मुलाकात की है।  मिली जानकारी के अनुसार राज ठाकरे यहां CM शिंदे से मराठी साइनबोर्ड और टोल बूथ मुद्दे पर चर्चा करने पहुंचे थे। 

BMC का आदेश

जानकारी दें कि BMC ने एक आदेश जारी कर कहा था कि मुंबई में अब दुकानों और प्रतिष्ठानों के लिए मराठी साइनबोर्ड लगाना अनिवार्य होगा। इसके साथ ही इस बाबत एक अन्य सर्कुलर के अनुसार शराब की दुकानों और बार का नाम किलों, गणमान्य व्यक्तियों और मूर्तियों के नाम पर नहीं रखना है। 

वहीं  इस आदेश का उल्लंघन करने पर सख्त कार्रवाई करने की बात भी कही गई थी। नगर निकाय ने कहा था कि इन नियमों के उल्लंघन के मामले में संबंधित दुकान और प्रतिष्ठान मालिकों के खिलाफ महाराष्ट्र दुकान और प्रतिष्ठान अधिनियम के तहत मुकदमा चलाया जाएगा। 

2 महीने का समय 

गौरतलब है कि मामले पर राज्य सरकार ने  बीते 17 मार्च, 2022 को मराठी नेमप्लेट के लिए महाराष्ट्र दुकान और प्रतिष्ठान अधिनियम में एक जरुरी संशोधन किया था। हालाँकि महाराष्ट्र में पिछले कुछ समय से मराठी भाषा में साइन बोर्ड लगाने को लेकर काफी बवाल हुआ था।  सितंबर महीने में सुप्रीम कोर्ट द्वारा मराठी भाषा में साइन बोर्ड लगाने को कहा गया था और मुंबई में सारे दुकानदारों को दो महीने का समय भी दिया गया था।  

‘टोल टैक्स’ राज्य का सबसे बड़ा ‘घोटाला’ 

गौरतलब है कि  महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने टोल टैक्स को राज्य का सबसे बड़ा ‘घोटाला’ करार दिया था।  इस बाबत ठाकरे ने कहा था कि , “मैं कुछ दिनों में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करूंगा और देखूंगा कि क्या प्रतिक्रिया मिलती है। इसके बाद, मेरे लोग सभी टोल संग्रह चौकियों पर जाएंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी छोटे वाहनों से टोल एकत्र न किया जाए। अगर सरकार हमारे खिलाफ कार्रवाई करती है, तो हम उन टोल बूथों को जला देंगे। ”

दरअसल राज ठाकरे ने बीते तीन दशकों में लगातार सरकारों की आलोचना की है, जिन्होंने टोल टैक्स खत्म करने का वादा किया था, लेकिन अब तक इस मामले में कोई भी ठोंस कदम नहीं उठाया गया है। हालांकि इस पर डिप्टी CM देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि चार पहिया वाहनों सहित सभी छोटे वाहनों को सरकार के निर्देश के अनुसार टोल टैक्स का भुगतान करने से छूट दी गई है।