Mumbai Local Trains Updates : commuter figures crosses 60 lakhs mark, only 25 percent less than pre-covid time
File

  • रेलवे ने शुरू की तैयारी
  • चल रही 2700 लोकल
  • क्यूआर कोड को लेकर आशंका
  • अधिकृत गाइडलाइन आने के बाद ही कोई निर्णय

मुंबई. मुंबई (Mumbai) में कोरोना (Corona) की दूसरी लहर (Second Wave) के नियंत्रण में आने के बाद स्वतंत्रता दिवस से आम लोगों के लिए लोकल ट्रेन (Local Train) के दरवाजे खोले जाने का निर्णय लिया गया है। राज्य सरकार द्वारा दिए गए  निर्देश के अनुसार वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके सभी लोगों को मुंबई लोकल में यात्रा की परमिशन दी जाएगी। 

उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष देश में कोरोना महामारी फैलने के बाद 320 दिन तक मुंबई लोकल आम लोगों के लिए बंद थी। इस साल 1 फरवरी से आम लोगों के लिए शर्तों के साथ लोकल शुरू की गई, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर आने के बाद अप्रैल से फिर आम लोगों के लिए लोकल बंद करनी पड़ी।

रेलवे ने शुरू की तैयारी

15 अगस्त से सभी के लिए लोकल शुरू किए जाने के सीएम के निर्णय को देखते हुए रेलवे ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है। मुंबई में मध्य और पश्चिम रेलवे के माध्यम से लोकल सेवा संचालित होती है। बताया गया कि फ़िलहाल 85 प्रतिशत लोकल चलाई जा रही है। मध्य रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी  ने कहा कि राज्य सरकार की गाइडलाइन से ही लोकल चलाई जाएगी। रेल प्रशासन को अलग से तैयारी करने की जरूरत नहीं है, रेल प्रशासन पूरी क्षमता के साथ लोकल चलाने के लिए तैयार है।

15 अगस्त से स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ बढ़ने से अतिरिक्त टिकट खिडकियां, एटीवीएम मशीनें, गेट पर सुरक्षा व्यवस्था आदि तैयारी रेलवे प्रशासन द्वारा  शुरू कर दी गई गई है। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा जारी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की जिम्मेदारी रेल प्रशासन पर होगी।

चल रही 2700 लोकल

मुम्बई उपनगर नेटवर्क पर इस समय लगभग 2700 लोकल ट्रेन चल रही हैं। मध्य रेलवे पर 1400 और वेस्टर्न रेलवे पर 1300 लोकल इस समय चलाई जा रही है। वैसे आम समय में मुंबई की लगभग 3150 लोकल ट्रेनों के माध्यम से 75 लाख से ज्यादा लोग यात्रा करते रहे हैं।  अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए  चल रही लोकल में भी इस समय रोजाना 18 से 20 लाख लोग यात्रा कर रहे हैं।

क्यूआर कोड को लेकर आशंका

वैक्सीन की दोनों खुराक ले चुके लोगों को यात्रा की परमिशन के लिए राज्य सरकार एप जारी करेगी। दोनों डोज ले चुके लोग अपना सर्टिफिकेट लोड करेंगे उसके बाद उन्हें क्यूआर कोड के माध्यम से यात्रा की इजाजत दी जाएगी। रेलवे के एक अधिकारी के अनुसार  क्यूआर कोड जारी किए जाने का निर्णय पहले  भी हुआ था, लेकिन वह लागु नहीं हो सका।

अब राज्य सरकार की अधिकृत गाइडलाइन आने के बाद ही कोई निर्णय लिया जा सकेगा। वैसे सरकार की एप या क्यूआर कोड की इस प्रक्रिया में समय लग सकता है। सरकार की शर्तों के अनुसार मुंबई के 19 लाख से अधिक लोग दोनों डोज ले चुके हैं। ये सभी लोकल में यात्रा के लिए पात्र होंगे। उधर, बीएमसी के कमिश्नर आई.एस. चहल ने स्पष्ट किया है कि क्यूआर कोड के माध्यम से ही मुंबई लोकल में यात्रा का पास मिलेगा।