Ambedakar Hospital Protest

Loading

नागपुर. कामठी रोड स्थित डॉ. बाबासाहब आम्बेडकर अनुसंधान केंद्र के नाम से संचालित हो रहे अस्पताल का विकास करते हुए इसे न केवल मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल बल्कि मध्य भारत का एकमात्र पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस कॉलेज बनाने का निर्णय लिया गया था. अब राज्य में सत्ता परिवर्तन के साथ ही इसे मिहान में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है.

यह षड्यंत्र उजागर होते ही डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर रुग्णालय बचाव कृति समिति ने अनिश्चितकालिन जन आंदोलन शुरू किया है. आश्चर्यजनक यह है कि अब तक भले ही नेताओं ने यहां हाजिरी लगाई हो लेकिन अब उत्तर नागपुर की स्थानीय जनता तथा विशेष रूप से महिलाओं ने आंदोलन स्थल पर मोर्चा संभाला हुआ है. चौथे दिन ही आंदोलन स्थल पर महिलाओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी. महिलाओं की ओर से न्याय मिलने तक आंदोलन में बने रहने की जानकारी दी.

स्थानीय लोगों में आक्रोश

अस्पताल को स्थानांतरित करने का विरोध करते हुए महिलाओं द्वारा आक्रोश जताया गया. महिलाओं ने कहा कि जनता के पैसों से ही सरकार और पूरा महकमा चलता है जिसमें उत्तर नागपुर की जनता द्वारा दिया गया टैक्स का पैसा भी शामिल है. ऐसे में सरकार का दायित्व है कि यहां की जनता को स्वास्थ्य की अच्छी सुविधा भी दे किंतु राज्य सरकार की ओर से उत्तर नागपुर को पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया है. स्वास्थ्य सुविधाएं देना तो दूर, यहां का अस्पताल ही दूसरी जगह पर शिफ्ट किया जा रहा है. उत्तर नागपुर की जनता के साथ यह अन्याय है. यदि  आंदोलन के बाद ही सरकार को कोई निर्णय लेना हो तो इसके लिए जनता तैयार हैं. 

उत्तर नागपुर वासियों की परीक्षा न ले सरकार

शृंखलाबद्ध आंदोलन में पहुंचीं महिलाओं ने कहा कि सरकार उत्तर नागपुर वासियों की परीक्षा न ले. फिलहाल आंदोलन शांति से किया जा रहा है. यहां की जनता अपने हक की लड़ाई लड़ना जानती है. गरीब जनता के इलाज के लिए इस क्षेत्र में कोई अच्छा अस्पताल तक नहीं है. दशकों बाद किसी तरह अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं मिलने की आशा जागी थी किंतु इस पर भी पानी फेर दिया गया है.  आंदोलन स्थल पर महिलाओं के साथ ही युवकों की ओर से भी अब हाजिरी लगाई जा रही है. कल्पना द्रोणकर, रत्नमाला गणवीर, डायना लिंगेकर, मनोज बंसोड, दिलीप जायसवाल, दीपक खोबरागडे, राजा नगरारे, पुष्पराज तिडके, धरमकुमार पाटिल, अशोक खांडेकर, आनंद चौरे, शहाब्बुद्दीन शेख, साहेबराव सिरसाट आदि उपस्थित थे.