हत्यारों को तत्काल करो गिरफ्तार, नाशिक में सड़कों पर उतरे आक्रोशित नागरिक

    नाशिक: नाशिक (Nashik) में जारी हत्याकांड से आम लोगों में भारी दहशत है और पुलिस (Police) की अक्षमता के खिलाफ भारी रोष व्याप्त है। इसकी पुष्टि बुधवार को हुई। सब्जी विक्रेता राजू शिंदे की निर्मम हत्या (Murder) के बाद से शहर में माहौल गर्मा गया है। हत्यारों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग को लेकर बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतर आए। हमेशा बेहद शांत रहने वाला नाशिक शहर इस हफ्ते हुई कई घटनाओं से हिल गया है। 

    कल ही चार साल की बच्ची का लॉकेट छीनने के प्रयास में चोर ने उस पर हमला कर दिया। बच्ची का अभी भी इलाज चल रहा है। इसके पहले एक पुलिसकर्मी के बेटे की हत्या और अब सब्जी की दुकान चलाने वाले युवक की निर्मम हत्या हो चुकी है। इसने आम नागरिक को झकझोर कर रख दिया है। 

    बढ़ रही हैं आपराधिक घटनाएं

    घटना पंचवटी थाना क्षेत्र की है। मृतक राजू शिंदे फुलेनगर के भरद वाड़ी में रहता था। वह आधी रात को घर जा रहा था। उसे रास्ते में कुछ अजनबियों ने रोका और उसे पत्थर मारकर मार डाला गया था। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई, लेकिन तब तक हत्यारे भाग चुके थे। शिंदे की सब्जी बेचने वाली एक छोटी सी दुकान थी। यह अपने परिवार की आजीविका के लिए सब्जियां बेचा करता था। इस हत्या का उद्देश्य वर्चस्ववाद हो सकता है ऐसा अंदाजा लगाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि इसी सप्ताह पुलिस के बेटे की हत्या भी इस कारण हुई थी। एक तरफ नाशिक में गैंगवार, खून और हत्या की घटनाएं हो रही हैं।

    हत्याओं से बिगड़ी नाशिक की छवि

    स्थानीय लोगों का कहना है कि शहर में हत्याएं होती रही हैं और पुलिस कमिश्नर दीपक पांडेय फिलहाल सिर्फ हेलमेट की सख्ती पर ही फोकस करते नजर आ रहे हैं। उन्हें अब अपराधियों पर ध्यान देना चाहिए। एक साथ सभी मोर्चों पर नजर रखें। लोग मर रहे हैं। नाशिक की छवि बिगड़ रही है। इसे रोकने के लिए शहर में शांति की मांग की जा रही है।

    अपराध दर पर लगाएं नियंत्रण

    राजू शिंदे की हत्या के बाद बड़ी संख्या में नागरिक सड़कों पर उतर आए। उन्होंने आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की। इस दौरान उपस्थित लोगों में जबरदस्त आक्रोश था। यह देख तत्काल पुलिस एस्कॉर्ट को तैनात कर दिया गया। इसलिए भीड़ तितर-बितर हो गई। लेकिन लोगों में भारी रोष है। देखा जा रहा है कि शहर में अपराध दर को पुलिस द्वारा तत्काल नियंत्रण में लाने की मांग की जा रही है।